ऑपरेशन ब्लूस्टार की 38वीं बरसी पर:
स्वर्ण मंदिर पर सैनिक हमले से सबक


हुक्मरान वर्ग को बहुत डर है कि हिन्दोस्तान के लोग अपने धार्मिक और अन्य भेदभावों को एक तरफ करके, अपने सांझे दुश्मन के खि़लाफ़, अपने सांझे लक्ष्य के लिए, एकजुट हो जाएंगे। इसे रोकने के लिए हुक्मरान वर्ग ने राज्य द्वारा आयोजित सांप्रदायिक हिंसा और राजकीय आतंकवाद को फैलाने के तौर-तरीक़ों में कुशलता हासिल कर ली है। अलग-अलग समय पर राज्य अलग-अलग समुदायों को निशाना बनाता है। पहले तो निशाना बनाए गए समुदाय के खि़लाफ़ राज्य बहुत ही जहरीला प्रचार फैलाता है और उसके बाद, बड़े सुनियोजित तरीक़े से उस समुदाय पर हमले करवाता है। उसके बाद राज्य यह झूठा प्रचार फैलाता है कि अलग-अलग धर्मों के लोग एक दूसरे का क़त्ल कर रहे हैं।

आगे पढ़ें
Babri_masjid_Joint-demonstration

बाबरी मस्ज़िद के विध्वंस के 29 वर्ष बाद:
हुक्मरान पूंजीपति वर्ग के खि़लाफ़ मज़दूरों और किसानों की एकता की हिफ़ाज़त में

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केंद्रीय समिति का बयान, 1 दिसंबर, 2021

हुक्मरान पूंजीपति वर्ग उदारीकरण और निजीकरण कार्यक्रम के खि़लाफ़ मज़दूरों और किसानों की बढ़ती एकता को तोड़ने के लिए, तरह-तरह के हथकंडों का इस्तेमाल कर रहा है। “इस्लामी आतंकवाद” और “सिख आतंकवाद” का हौवा खड़ा करना, सैकड़ों वर्षो पहले राजाओं द्वारा किए गए अपराधों के लिए पूरे मुसलमान कौम से बदला लेने की भावना की हिमायत करना, धार्मिक अल्पसंख्यकों के खि़लाफ़ झूठा प्रचार फैलाना और हिंसा भड़काना, ये सब उन पैशाचिक तरीकों में से कुछ हैं, जिनका हमारे हुक्मरान, लोगों को आपस में लड़वाने के लिए, नियमित तौर पर इस्तेमाल करते हैं।

आगे पढ़ें