हमारे पाठकों से : पूंजीपतियों की सरकारें पूंजीपतियों के हितों की ही रक्षा करती हैं!

संपादक महोदय,

यह दिन-ब-दिन सही साबित हो रहा है कि “पूंजीवाद एक अमानवीय व्यवस्था है जिसका मक़सद है लाखों-लाखों लोगों की जानों को कुर्बान करके; मुट्ठीभर अति-अमीरों की अमीरी को बढ़ाते रहना”; जैसा कि मई दिवस 2020 पर कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के बयान में कहा गया है।

आगे पढ़ें