पूंजीवादी सरकारों के पास गहराते आर्थिक संकट का कोई समाधान नहीं है

हाल के आंकड़े यह दिखाते हैं कि अनेक अगुवा पूंजीवादी देशों में आर्थिक संवर्धन नकारात्मक जा रहा है, जब कि बाकी सभी देशों में आर्थिक संवर्धन की गति धीमी हो रही है। विश्व बैंक और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष जैसे बहुदेशीय संस्थानों द्वारा यह गंभीर चिंता प्रकट की जा रही है कि वैश्विक आर्थिक मंदी दोबारा भयानक रूप ले सकती है।

आगे पढ़ें
31st Anniversary of CGPI

कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की 31वीं सालगिरह पर शानदार समारोह

 

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की 31वीं सालगिरह पर दिल्ली में 25 दिसंबर, 2011 को एक शानदार रंगारंग कार्यक्रम आयोजित किया गया। संपूर्ण कार्यक्रम को पार्टी के नौजवान कामरेडों ने संभाला।

आगे पढ़ें

दिल्ली में प्रथम मजदूर वर्ग गोष्ठी में गंभीर चर्चा हुई :

आगे का रास्ता : एक लक्ष्य, एक कार्यक्रम, राजनीतिक सत्ता के लिये!

एक महत्वपूर्ण और नई दिशा दिखाने वाली दो-दिवसीय गोष्ठी दिल्ली में 23-24 दिसंबर, 2011 को लोक आवाज़ पब्लिशर्स एंड डिस्ट्रिब्यूटर्स द्वारा आयोजित की गई थी। कम्युनिस्ट आन्दोलन की विभिन्न धाराओं और पार्टियों से कार्यकर्ताओं व संगठनकर्ताओं ने इस गोष्ठी में भाग लिया।

आगे पढ़ें

राजस्थान के सरकारी अस्पतालों के डॉक्टरों की हड़ताल

केंद्र के समान वेतनमान और समयबध्द पदोन्नति की मांग को लेकर 21 दिसम्बर से राजस्थान के सेवारत चिकित्सकों की हड़ताल चल रही है। 6000 चिकित्सक  बहादुरी से अपने अधिकार के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

आगे पढ़ें

पश्चिम रेलवे के मोटरमैन का संघर्ष

23-25 नवंबर, 2011 के दौरान पश्चिम रेलवे के मोटरमैन ने, वेस्टर्न रेलवे मोटरमैंस एसोसिएशन के झंडे तले संगठित होकर, हड़ताल की। इसकी वजह से ट्रेनों की सेवा अस्त-व्यस्त हो गयी थी। किसी प्लेटफार्म में सिग्नल पार करने के लिये एक मोटरमैन को निलंबित कर दिया गया था,इन फैसले के खिलाफ़ यह हड़ताल की गयी थी।

आगे पढ़ें

हम अपनी धरती मां को नहीं बेचते!

परमाणु परियोजनाओं के खिलाफ़ पूरे देश में जन प्रतिरोध बढ़ रहा है। हरियाणा के फतेहाबाद जिले के गोरखपुर गांव तथा उस इलाके के हजारों किसान भी जमकर विरोध कर रहे हैं। गोरखपुर गांव में सरकार ने परमाणु बिजली परियोजना लगाने की योजना बनाई है। सरकार ने बड़े ही बेशर्मी से घोषित किया है कि उस इलाके की जमीन बंजर है। इससे गुस्सा हुये किसान गत 400 से ज्यादा दिन से सत्याग्रह आंदोलन कर रहे हैं। धरने पर बैठे

आगे पढ़ें

वोल्टास के मजदूर 200 दिनों से भूख हड़ताल पर

21 दिसम्बर, 2011 को मुंबई में टाटा की मालिकी की कंपनी, वोल्टास के मुख्य कार्यालय पर एक गेट मीटिंग की गई। यह मजदूरों की, अपने अधिकारों की हिफाजत में लगातार भूख हड़ताल का 200 वां दिन था।

आगे पढ़ें
मजदूर वर्ग के लिये राज्य सत्ता को अपने हाथ में लेने की जरूरत

मजदूर वर्ग के लिये राज्य सत्ता को अपने हाथ में लेने की जरूरत

मजदूर वर्ग के लिये राज्य सत्ता को अपने हाथ में लेने की जरूरत23-24 दिसम्बर, 2011 को मजदूर वर्ग गोष्ठी में प्रारंभिक दस्तावेज कामरेड लाल सिंह ने हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति की ओर से पेश किया। मजदूर वर्ग के लिये राज्य सत्ता को अपने हाथ में लेने की जरूरत शीर्षक के इस दस्तावेज को, गोष्ठी में हुई चर्चा के आधार पर, संपादित किया गया है और केन्द्रीय समिति के फैसले के अनुसार प्रकाशित किया जा रहा है।

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

आगे पढ़ें

मानव अधिकार और इजारेदार पूंजीपतियों के “अधिकतम मुनाफों के अधिकार” के बीच टक्कर!

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का बयान, 8 दिसम्बर, 2011

इस वर्ष 10 दिसम्बर को संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा मानव अधिकारों के घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर के 63 वर्ष पूरे होंगे। आज से 21 वर्ष पहले, जब सोवियत संघ विघटित होने जा रहा था, तब 14नवम्बर को यूरोपीय राज्यों ने, अमरीका और कनाडा सहित, पैरिस चार्टर पर हस्ताक्षर किया था। पैरिस चार्टर में यह ऐलान कि

आगे पढ़ें