सहर कारगो कर्मचारियों की हड़ताल

मुम्बई के सहर कारगो कांप्लेक्स में कारगो से काम करने वाले 8000कर्मचारियों ने 26मई, 2011को 24 घंटे की हड़ताल की। ये मजदूर ढांचागत सुविधाओं की कमी तथा बढ़ते भ्रष्टाचार का विरोध कर रहे थे।

मुम्बई हवाई अड्डे को मुम्बई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एम.आई.ए.एल) नामक निजी कंपनी को सौंपा गया है। एम.आई.ए.एल के साथ समझौते के बाद अगले दिन हड़ताल को रोका गया।

आगे पढ़ें

बैंक कर्मचारी 7 जुलाई को हड़ताल पर

देश के सरकारी और निजी बैंकों के मजदूर 7जुलाई, 2011को हड़ताल करेंगे। ये मजदूर सार्वजनिक क्षेत्र बैंकों के निजीकरण का, आधुनिक प्रकार के बैंक खोलने के लिये बड़ी-बड़ी कंपनियों को नये लाइसेंस दिये जाने का, बैंकिंग काम को निजी कंपनियों को आउटसोर्स करने का और हिन्दोस्तानी बैंकों में विदेशी निवेशकों के मतदान के अधिकारों को बढ़ाने वाले बैंकिंग नियंत्रण कानून के संशोधन का विरोध कर रहे हैं। पूरे देश मे

आगे पढ़ें

व्हील्स इंडिया के मज़दूरों की हड़ताल

महाराष्ट्र में पुणे के समीप रंजनगांव में स्थित, व्हील्स इंडिया के मज़दूर अपने वेतन में बढ़ोतरी, नियमित नौकरी और स्थायी तरीके के काम में लगाये ठेके के मज़दूरों के लिये बराबरी के वेतन की मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं।

आगे पढ़ें

पानीपत में बेहिसाब शोषण

पानीपत के औद्योगिक क्षेत्र में ज्यादातर होजरी और धागे के कारखाने हैं। इस औद्योगिक क्षेत्र में हजारों की संख्या में मजदूर काम करते हैं, जो कि आस-पास की कालोनियों में किराये के मकानों में रहते हैं।

आगे पढ़ें

एयर इंडिया की हड़ताल

महोदय, 29अप्रैल, 2011को आपके वेब साईट पर एयर इंडिया के विमान चालकों की हड़ताल के मुद्दे पर लेख पढ़ कर मुझे खुशी हुई। इसमें हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी ने विमान चालकों के जायज़ संघर्ष का पूरा समर्थन किया है। इस लेख में पार्टी ने हड़ताल और उसके कारणों के बारे में बहुत सूक्ष्मता और बिना जनोत्तेजना के लिखा है।

आगे पढ़ें

व्यवस्था परिवर्तन की जरुरत

संपादक महोदय,“पश्चिम बंगाल में चुनाव: बंगाल में व्यवस्था परिवर्तन के जरूरत!”, 17 अप्रैल, 2011 को छपे इस बेहद सामयिकी और सटीक बयान के लिए मैं आपको धन्यवाद देता हूँ। यह बयान ऐसे वक्त छापा गया है जब पश्चिम बंगाल राज्य में करीब 35 वर्षों से वाम मोर्चा राज कर रहा है। यह एक महत्वपूर्ण बयान है जिसमें बंगाल में होने वाले चुनाव का विश्लेषण किया गया है और इस बात को स्पष्ट़ किया गया है और य

आगे पढ़ें

मई दिवस की पुकार

महोदय, मैं हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी को “अधिकतम लूट-खसौट की पूंजीवादी व्यवस्था के खिलाफ़ एकजुट हों!” शीर्षक की मई दिवस की पुकार छापने के लिये शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। जब दुनिया के दो-ध्रुवीय बंटवारे के खत्म होने के बाद, लोग अपनी भंयकर परिस्थिति से निकलने का रास्ता ढूंढ रहे हैं, इस लेख में आपने स्पष्टता से उन बिंदुओं पर ध्यान दिलाया है जो लोगों को सही रास्ता दिखाते

आगे पढ़ें

हमारे इलाके के देशों की संप्रभुता का घोर हनन करने के लिये अमरीका की कड़ी निन्दा करें!

बर्तानवी-अमरीकी सेना व खुफिया एजेंट दक्षिण एशिया से बाहर निकलो!

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का बयान, 5 मई, 2011

अमरीकी खुफिया दलों और सेनाओं द्वारा पाकिस्तान की धरती पर की गई सैनिक कार्यवाही, जिसमें समाचार सू़त्रों के अनुसार, ओसामा बिन लादेन को घेर कर मार डाला गया, यह हमारे पड़ौसी देश की संप्रभुता का घोर हनन है। पर बड़ी-बड़ी इजारेदार कंपनियों द्वारा नियंत्रित अंतर्राष्ट्रीय मीडिया यह हकीकत नहीं बता रही है कि ओसामा को तथाकथित मार गिराने वाली इस कार्यवाही के लगभग एक हफ्ते पहले से, पाकिस्तान में अमरीकी साम्राज्यवादियों द्वारा उस देश की संप्रभुता के हनन के खिलाफ़ जनसामूहिक विरोध बहुत ज्यादा बढ़ गया था।

आगे पढ़ें

राज्य द्वारा किसानों के दमन की निंदा करें!

ग्रेटर नोएडा के भट्टा-परसौल गाँव और दिल्ली नोएडा होते हुए आगरा और अलीगढ़ जोड़ने वाले एक्सप्रेस-वे से लगे हुए कई अन्य गांवों के किसानों के खिलाफ राज्य द्वारा चलाये जा रहे वहशी दमन का हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी कड़ी निंदा करती है।

आगे पढ़ें