राष्ट्रीय मुद्रीकरण पाइपलाइन की योजना के ख़िलाफ़ रेल मज़दूरों का विरोध प्रदर्शन

13-18 सितंबर, 2021, सप्ताह के दौरान हजारों रेल मज़दूर, देशभर में सड़कों पर उतर आए। वे विभिन्न जन-संपत्तियों के “मुद्रीकरण” करने के नाम पर, भारतीय रेल की विभिन्न संपत्तियों का निजीकरण करने के सरकार के फ़ैसले का विरोध कर रहे थे।

आगे पढ़ें

अखिल भारतीय स्टेशन मास्टर्स एसोसिएशन के महासचिव के साथ साक्षात्कार

मजदूर एकता लहर (म.ए.ल.) भारतीय रेलवे में कई श्रेणी-वार एसोसिएशनों के नेताओं के साथ जैसे कि रेल चालकों, गार्डों, ट्रेन नियंत्रकों, सिग्नल और रखरखाव कर्मचारियों, रेल की पटरियों के अनुरक्षकों, पॉइंटमैन, आदि के साक्षात्कार कर रही है और छापती रही है। इस श्रृंखला के सातवें भाग में अखिल भारतीय स्टेशन मास्टर्स एसोसिएशन (ए.आई.एस.एम.ए.) के महासचिव कामरेड सुनील कुमार पी. (एस.के.पी.) का साक्षात्कार हम यहां प्रस्तुत कर रहे हैं।

आगे पढ़ें

सरकारी आंकड़े किसानों की दयनीय स्थिति का खुलासा करते हैं

लंबे समय से हिन्दोस्तानी समाज की रीढ़ की हड्डी माना जाने वाला कृषि क्षेत्र, अब इसमें कार्यरत लोगों के लिए पर्याप्त आय नहीं दे रहा है

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा 10 सितंबर, 2021 को प्रकाशित स्थिति आंकलन सर्वेक्षण (एस.ए.एस.) देश में किसानों की आर्थिक स्थिति पर सबसे व्यापक आधिकारिक सर्वेक्षण है। यह 2019 में किया गया था और इसमें 12 महीने की अवधि, जुलाई 2018 से जून 2019 तक का डेटा एकत्र किया गया था। यह कृषि संकट की गंभीरता और किसान परिवारों की दयनीय स्थिति की पुष्टि करता है।

आगे पढ़ें

किसान आंदोलन – वर्तमान स्थिति और आगे का रास्ता

मजदूर एकता कमेटी द्वारा आयोजित बैठक

25 अगस्त को दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन कर रहे किसानों को नौ महीने पुरे हुए – मजदूर एकता समिति (एमईसी) ने 6 सितंबर को ”किसान आंदोलन – वर्तमान स्थिति और आगे का रास्ता“ विषय पर एक बैठक आयोजित की। बैठक ऑनलाइन आयोजित की गई थी।

आगे पढ़ें
Kisan_Mahapanchayat_Muzzaffarnagar

किसानों ने मांगें पूरी होने तक संघर्ष जारी रखने का संकल्प लिया

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में संयक्त किसान मोर्चा (एस.के.एम.) द्वारा आयोजित “किसान-मज़दूर महापंचायत” के लिए शक्ति और एकता के विशाल प्रदर्शन में 5 सितंबर को देशभर से 10 लाख से अधिक किसान एक साथ आए।

आगे पढ़ें
Pie_Chart_400

मुद्रीकरण – निजी पूंजीवादी लाभ के लिए सार्वजनिक संपत्ति की लूट

23 अगस्त को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुनियादी ढांचे में सार्वजनिक संपत्ति का “मुद्रीकरण” करने की योजना की घोषणा की। उन्होंने दावा किया कि सरकार को इस योजना से चार साल में 6 लाख करोड़ रुपये एकत्र होने की उम्मीद है।

आगे पढ़ें
AIIMS_Nurses_400

एम्स के कर्मचारियों ने अनिश्चितकालीन हड़ताल का नोटिस दिया

एम्स की नर्स यूनियन ने एम्स की कर्मचारी यूनियन – एम्स एंड ऑफिसर एसोसिएशन ऑफ एम्स के के साथ मिलकर, प्रशासन को संयुक्त हड़ताल का नोटिस दिया है और कहा है कि उनकी मांगें पूरी न होने पर 25 अक्तूबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू की जायेगी।

आगे पढ़ें

11 सितम्बर के आतंकवादी हमलों के बीस साल बाद :
राजकीय आतंकवाद, कब्ज़ाकारी जंग और राष्ट्रीय संप्रभुता के हनन को जायज़ ठहराने के लिए, आतकंवाद साम्राज्यवाद का एक हथकंडा है

11 सितम्बर, 2001 को न्यू यॉर्क के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर की दो इमारतों पर दो विमान टकराए थे। एक और विमान वाशिंगटन के पेंटागन से टकराया था। उन आतंकवादी हमलों में लगभाग 3000 लोग मारे गए थे।

आगे पढ़ें
Access_to_Comps_internet_240

डिजिटल शिक्षा :
पूंजीपतियों के लिए एक वरदान और बहुसंख्य बच्चों और युवाओं के लिए एक त्रासदी

कोविड-19 महामारी की वजह से लगे लॉकडाउन ने हमारे देश के लाखों बच्चों और युवाओं के शिक्षा हासिल करने के सपनों और आकांक्षाओं को चकनाचूर कर दिया है।

आगे पढ़ें

27 सितंबर का ‘भारत बंद’ हार्दिक समर्थन के योग्य है

मज़दूर एकता कमेटी का बयान 8 सितंबर, 2021
किसान यूनियनों के संयुक्त संगठन, संयुक्त किसान मोर्चा ने 27 सितंबर, 2021 को ‘भारत बंद’ का आह्वान किया है। पिछले साल इसी दिन हिन्दोस्तान के राष्ट्रपति ने संसद द्वारा पारित तीनों किसान-विरोधी कानूनों को मंजूरी दी थी। यह बंद दिल्ली की सीमाओं पर किसानों द्वारा बड़े पैमाने पर किये जा रहे विरोध प्रदर्शन के 10 महीने पूरे होने का प्रतीक होगा।

आगे पढ़ें