मुंबई में 26/11 के आतंकी हमले की 14वीं बरसी पर :
मक़सद क्या था और असली मास्टरमाइंड कौन था?

26 नवंबर, 2022 को, मुंबई में हुए आतंकवादी हमले की 14वीं बरसी है। भारी हथियारों से लैस दस आतंकवादियों ने तीन रात और दिन लगातार तक शहर में जबरदस्त तबाही मचाई। उनके निशाने पर थे – छत्रपति शिवाजी रेलवे टर्मिनस, ओबेरॉय ट्राइडेंट, ताज होटल, लियोपोल्ड कैफे, कामा अस्पताल, नरीमन हाउस और मेट्रो सिनेमा। इस हमले में 25 विदेशियों सहित 168 लोगों की जानें चली गईं।

आगे पढ़ें

बिजली का निजीकरण समाज के हितों के विरुद्ध है
बिजली क्षेत्र के मज़दूरों का संघर्ष पूरी तरह जायज़ है

English_Kisan_interviewप्रथम प्रकाशन नवंबर 2022

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के द्वारा मई से अगस्त 2022 के बीच प्रकाशित लेखों का संकलन

(पी.डी.ऍफ़. डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें)

आगे पढ़ें


दिल्ली की नर्सों ने अपनी मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल की धमकी दी

दिल्ली नर्सेज फेडरेशन (डी.एन.एफ.) के बैनर तले सैकड़ों नर्सों ने अपनी नौकरियों के नियमितीकरण और लंबित पदोन्नति की मांग को लेकर 4, 5 और 6 नवंबर को प्रतिदिन सुबह 9 बजे से 11 बजे तक हड़ताल की। डी.एन.एफ. ने यह भी घोषणा की है कि अगर उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो वे 16 नवंबर को सामूहिक रूप से आकस्मिक अवकाश पर चले जाएंगे तथा 30 नवंबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे।

आगे पढ़ें


आंगनवाड़ी मज़दूरों ने अपने अधिकारों का संघर्ष तेज़ किया

दिल्ली की आंगनवाड़ी मज़दूरों ने, कुछ महीने पहले नौकरी से निकाली गई 800 मज़दूरों की बहाली के लिए अपना संघर्ष तेज़ कर दिया है। अपने अधिकारों की रक्षा में यूनियन द्वारा आयोजित की गई कार्रवाइयों में भाग लेने के कारण इन मज़दूरों को बर्ख़ास्त कर दिया गया था।

आगे पढ़ें
1984_1-Nov2022

सिखों के जनसंहार की 38वीं बरसी पर जनसभा:
राज्य द्वारा आयोजित सांप्रदायिक हिंसा और आतंक के खि़लाफ़ संघर्ष जारी है!

1 नवंबर, दिल्ली और देश के अन्य भागों में आयोजित सिखों के जनसंहार की 38वीं बरसी का दिन है। उस दिन पर, राज्य द्वारा आयोजित सांप्रदायिक जनसंहार के खि़लाफ़ संघर्ष करने वाले संगठनों ने कई विरोध प्रदर्शन किये।

आगे पढ़ें

हमारे पाठकों से
1984 में हुये सिखों के जनसंहार का जीता जागता प्रमाण

मज़दूर एकता लहर के नवंबर, 1-15 के अंक में प्रकाशित 1984 के जनसंहार के सबक लेख को पढ़कर, मुझे महसूस हुआ कि इसके बारे में और जानकारी लेनी चाहिए।

आगे पढ़ें
Nohar-Deligation


राजस्थान में किसानों ने नकली उर्वरक मामले में जांच और मुआवज़े की मांग की

मुख्यमंत्री के नाम से दिये गये इस ज्ञापन में कहा गया है कि अपराधियों को शीघ्र जेल में डालकर, मामले की उच्च स्तरीय जांच कराई जाए, जिससे किसान और किसानी को बचाया जा सके। अभी तक कितना नकली उर्वरक किसानों में बिक चुका है, इसकी जांच करके किसानों को जानकारी दी जाए, ताकि सरकार किसानों की बर्बाद हुई फ़सलों का मुआवज़ा समय पर देकर, किसानों को हुए नुक़सान की भरपाई कर सके।

आगे पढ़ें
Dresden_protest


पूरे यूरोप में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन जारी हैं

यूरोप के कई देशों में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन एक बार फिर शुरू हो गए हैं। लोग बैनर लेकर बड़ी संख्या में सड़कों पर उतरे रहे हैं और महंगाई के ख़िलाफ़, रूस पर लगाये गये प्रतिबंधों के ख़िलाफ़ और नाटो के विरोध में नारे लगा रहे हैं। इन देशों के लोग यह मांग कर रहे हैं कि उनकी सरकारें नाटो से बाहर निकल जाएं।

आगे पढ़ें


किसानों का संघर्ष जारी है

पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और देश के अन्य भागों के किसान अपनी फ़सलों के लिये लाभकारी दामों पर सुनिश्चित सरकारी ख़रीदी के लिए अपने संघर्ष को जारी रखे हुए हैं। सभी फ़सलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य, सभी कृषि की लागतों के लिए राज्य की सब्सिडी, बेहतर सिंचाई सुविधाओं, किसानों की कर्ज़माफ़ी, आदि के लिए और बिजली संशोधन विधेयक के खि़लाफ़, वे निरंतर संघर्ष में लगे हैं।

आगे पढ़ें

नोटबंदी की छठी वर्षगांठ पर :
नोटबंदी का वास्तविक उद्देश्य स्पष्ट हुआ

प्रधानमंत्री ने दावा किया था कि नोटबंदी से काले धन का पता चलेगा, भ्रष्टाचार ख़त्म होगा और आतंकवाद के लिए मिलने वाले धन पर रोक लगेगी। उन्होंने यह भी दावा किया था कि इससे अमीर और ग़रीब के बीच की असमानता कम हो जायेगी। उन्होंने लोगों से “दीर्घकालिक फ़ायदे” के लिए “कुछ थोड़े समय के” दर्द को बर्दाश्त करने के लिए कहा था।

आगे पढ़ें