Bara_Hindu_Rao_pending_salary_protes

दिल्ली के बाड़ा हिंदू राव अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टरों द्वारा हड़ताल

उत्तरी दिल्ली के बाड़ा हिंदू राव अस्पताल (एच.आर.एच.) के 300 से अधिक रेजिडेंट डॉक्टर 22 नवंबर से अपने वेतन और भत्तों के भुगतान की मांग को लेकर हड़ताल पर हैं। ओपीडी सेवाएं निलंबित हैं, लेकिन डॉक्टरों ने गंभीर रोगियों के लिए आपातकालीन सेवाओं को चालू रखा है और उसके लिए बारी-बारी से पारियों में काम कर रहे हैं।

आगे पढ़ें
Babri_masjid_Joint-demonstration

बाबरी मस्ज़िद के विध्वंस के 29 वर्ष बाद:
हुक्मरान पूंजीपति वर्ग के खि़लाफ़ मज़दूरों और किसानों की एकता की हिफ़ाज़त में

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केंद्रीय समिति का बयान, 1 दिसंबर, 2021

हुक्मरान पूंजीपति वर्ग उदारीकरण और निजीकरण कार्यक्रम के खि़लाफ़ मज़दूरों और किसानों की बढ़ती एकता को तोड़ने के लिए, तरह-तरह के हथकंडों का इस्तेमाल कर रहा है। “इस्लामी आतंकवाद” और “सिख आतंकवाद” का हौवा खड़ा करना, सैकड़ों वर्षो पहले राजाओं द्वारा किए गए अपराधों के लिए पूरे मुसलमान कौम से बदला लेने की भावना की हिमायत करना, धार्मिक अल्पसंख्यकों के खि़लाफ़ झूठा प्रचार फैलाना और हिंसा भड़काना, ये सब उन पैशाचिक तरीकों में से कुछ हैं, जिनका हमारे हुक्मरान, लोगों को आपस में लड़वाने के लिए, नियमित तौर पर इस्तेमाल करते हैं।

आगे पढ़ें
March_Sansad_marg

मज़दूर संगठनों ने महंगाई, बढ़ते शोषण और मजदूर-किसान विरोधी नीतियों के ख़िलाफ़ अपनी एकजुट आवाज बुलंद की

दिल्ली राजधानी क्षेत्र के तमाम मज़दूर संगठनों ने एकजुट होकर, 25 नवंबर 2021 को नयी दिल्ली के संसद मार्ग पर एक विरोध प्रदर्शन आयोजित किया।

आगे पढ़ें

तीन किसान कानूनों का रद्द किया जाना :
हुक्मरान वर्ग की चाल से बच कर रहें!

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का बयान, 22 नवंबर, 2021

महान राजनेता के रूप में पेश आते हुए, प्रधान मंत्री मोदी ने, 19 नवंबर, 2021 को यह घोषणा की कि तीन किसान कानूनों को जल्दी ही रद्द कर दिया जायेगा।

उन्होंने देश की जनता से माफी मांगी कि वे कुछ किसानों को इन तीन कानूनों के फायदों के बारे में यकीन नहीं दिला पाए। उन्होंने दावा किया कि ये कानून खास तौर पर छोटे किसानों के हित के लिए हैं। उन्होंने इस सच्चाई को छुपाया कि इन कानूनों का इरादा इजारेदार पूंजीवादी कंपनियों के मुनाफों को बढ़ाना है। उन्होंने वादा किया कि वे “देश के हित के लिए” काम करते रहेंगे, जबकि उनकी सरकार टाटा, अंबानी, बिरला, अडानी और दूसरे इजारेदार पूंजीवादी घरानों के हित के लिए काम करती रहती है।

आगे पढ़ें
240_1984_Mandi_Hous_Demo_on_1_nov_21

1984 में सिखों के जनसंहार की 37वीं बरसी के अवसर पर विरोध प्रदर्शन

नवंबर 1984 में दिल्ली और अन्य स्थानों पर सिखों के क्रूर जनसंहार के 37 साल बाद, 1 नवंबर, 2021 को नई दिल्ली के मंडी हाउस पर एक विरोध प्रदर्शन और जनसभा में 19 अलग-अलग संगठनों ने भाग लिया। मीटिंग के मुख्य बैनर पर लिखे गये नारे थे : “सांप्रदायिकता और सांप्रदायिक हिंसा के ख़िलाफ़ संघर्ष में एकजुट हों!” और “एक पर हमला सब पर हमला!”

आगे पढ़ें

किसान आंदोलन – वर्तमान स्थिति और आगे की दिशा

मज़दूर एकता कमेटी द्वारा आयोजित चौथी बैठक

किसान आंदोलन को पूरे देश में मज़दूरों, महिलाओं, युवाओं और छात्रों का बढ़ता समर्थन मिल रहा है। संघर्ष को अब राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय समर्थन मिल रहा है।

आगे पढ़ें

महान अक्तूबर समाजवादी क्रांति की 104वीं वर्षगांठ पर :
पूंजीवादी-साम्राज्यवादी व्यवस्था का एकमात्र असली विकल्प समाजवाद है

मौजूदा पूंजीवादी-साम्राज्यवादी व्यवस्था का विकल्प क्या है और इसे हक़ीक़त में कैसे हासिल किया जा सकता है – 20वीं शताब्दी ने इस प्रश्न का एक स्पष्ट उत्तर प्रदान किया है। 1917 की रूसी क्रांति और सोवियत संघ में एक समाजवादी व्यवस्था के निर्माण ने सिद्धांत और व्यवहार में ऐसे विकल्प की स्थापना की और सबके सामने पेश किया।

आगे पढ़ें

लेनिन की 152वीं जयंती के अवसर पर :
भाग-3: लेनिन के पुस्तिका – ‘राज्य और क्रांति’ के बारे में

कॉमरेड लेनिन के जन्म के 152वें वर्ष के दौरान हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी द्वारा प्रकाशित लेखों की श्रृंखला को यह तीसरा लेख है। इस श्रृंखला में पहला लेख 9 मई को और दूसरा लेख 21 जून, 2021 को प्रकाशित हुआ था।

आगे पढ़ें

नोटबंदी के पांच साल बाद :
असली इरादे और झूठे वायदे अब स्पष्ट हो गए

8 नवंबर, 2016 को जब प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी ने नोटबंदी की घोषणा की थी, उसके पांच साल बाद, उसे जायज़ ठहराने के लिए जो झूठे वायदे किये गए थे, उनका पूरा पर्दाफाश हो चुका है। नोटबंदी को लागू करने के असली इरादे भी अब साफ हो गए हैं।

आगे पढ़ें

किसान आन्दोलन के सामने कुछ सवाल

प्रथम प्रकाशन अक्तूबर 2021

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, लाल सिंह का मज़दूर एकता लहर के साथ साक्षात्कार

पी.डी.एफ. डाउनलोड करनें के लिये चित्र पर क्लिक करें

आगे पढ़ें