आंगनवाड़ी मज़दूरों ने अपने अधिकारों का संघर्ष तेज़ किया

दिल्ली की आंगनवाड़ी मज़दूरों ने, कुछ महीने पहले नौकरी से निकाली गई 800 मज़दूरों की बहाली के लिए अपना संघर्ष तेज़ कर दिया है। अपने अधिकारों की रक्षा में यूनियन द्वारा आयोजित की गई कार्रवाइयों में भाग लेने के कारण इन मज़दूरों को बर्ख़ास्त कर दिया गया था।

आगे पढ़ें
1984_1-Nov2022

सिखों के जनसंहार की 38वीं बरसी पर जनसभा:
राज्य द्वारा आयोजित सांप्रदायिक हिंसा और आतंक के खि़लाफ़ संघर्ष जारी है!

1 नवंबर, दिल्ली और देश के अन्य भागों में आयोजित सिखों के जनसंहार की 38वीं बरसी का दिन है। उस दिन पर, राज्य द्वारा आयोजित सांप्रदायिक जनसंहार के खि़लाफ़ संघर्ष करने वाले संगठनों ने कई विरोध प्रदर्शन किये।

आगे पढ़ें

हमारे पाठकों से
1984 में हुये सिखों के जनसंहार का जीता जागता प्रमाण

मज़दूर एकता लहर के नवंबर, 1-15 के अंक में प्रकाशित 1984 के जनसंहार के सबक लेख को पढ़कर, मुझे महसूस हुआ कि इसके बारे में और जानकारी लेनी चाहिए।

आगे पढ़ें
Nohar-Deligation


राजस्थान में किसानों ने नकली उर्वरक मामले में जांच और मुआवज़े की मांग की

मुख्यमंत्री के नाम से दिये गये इस ज्ञापन में कहा गया है कि अपराधियों को शीघ्र जेल में डालकर, मामले की उच्च स्तरीय जांच कराई जाए, जिससे किसान और किसानी को बचाया जा सके। अभी तक कितना नकली उर्वरक किसानों में बिक चुका है, इसकी जांच करके किसानों को जानकारी दी जाए, ताकि सरकार किसानों की बर्बाद हुई फ़सलों का मुआवज़ा समय पर देकर, किसानों को हुए नुक़सान की भरपाई कर सके।

आगे पढ़ें
Dresden_protest


पूरे यूरोप में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन जारी हैं

यूरोप के कई देशों में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन एक बार फिर शुरू हो गए हैं। लोग बैनर लेकर बड़ी संख्या में सड़कों पर उतरे रहे हैं और महंगाई के ख़िलाफ़, रूस पर लगाये गये प्रतिबंधों के ख़िलाफ़ और नाटो के विरोध में नारे लगा रहे हैं। इन देशों के लोग यह मांग कर रहे हैं कि उनकी सरकारें नाटो से बाहर निकल जाएं।

आगे पढ़ें


किसानों का संघर्ष जारी है

पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और देश के अन्य भागों के किसान अपनी फ़सलों के लिये लाभकारी दामों पर सुनिश्चित सरकारी ख़रीदी के लिए अपने संघर्ष को जारी रखे हुए हैं। सभी फ़सलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य, सभी कृषि की लागतों के लिए राज्य की सब्सिडी, बेहतर सिंचाई सुविधाओं, किसानों की कर्ज़माफ़ी, आदि के लिए और बिजली संशोधन विधेयक के खि़लाफ़, वे निरंतर संघर्ष में लगे हैं।

आगे पढ़ें

नोटबंदी की छठी वर्षगांठ पर :
नोटबंदी का वास्तविक उद्देश्य स्पष्ट हुआ

प्रधानमंत्री ने दावा किया था कि नोटबंदी से काले धन का पता चलेगा, भ्रष्टाचार ख़त्म होगा और आतंकवाद के लिए मिलने वाले धन पर रोक लगेगी। उन्होंने यह भी दावा किया था कि इससे अमीर और ग़रीब के बीच की असमानता कम हो जायेगी। उन्होंने लोगों से “दीर्घकालिक फ़ायदे” के लिए “कुछ थोड़े समय के” दर्द को बर्दाश्त करने के लिए कहा था।

आगे पढ़ें


नौकरियों के बड़े पैमाने पर नष्ट होने का कारण पूंजीवादी लालच है

वर्तमान गहरे आर्थिक संकट की स्थिति में, अपने मुनाफ़ों को और भी बढ़ाने के पूंजीपतियों के प्रयासों की वजह से, दुनियाभर में बड़े पैमाने पर नौकरियों का नाश हो रहा है।

आगे पढ़ें
Opec with text


पेट्रोलियम निर्यातक देशों द्वारा तेल उत्पादन में कटौती करने के फ़ैसले से अमरीका बौखलाया

पेट्रोलियम निर्यातक राज्यों का 23 सदस्यीय समूह, जिसे ओपेक के नाम से जाना जाता है, इसने तेल के उत्पादन में प्रतिदिन 20 लाख बैरल की कटौती करने के लिए अक्टूबर के शुरुआत में अपनी आपसी सहमति व्यक्त कर दी। यह कटौती वर्तमान में दैनिक तेल उत्पादन का लगभग 2 प्रतिशत है।

आगे पढ़ें
Maruti_Mini_Secretariat


मोटरगाड़ी उद्योग में मज़दूरों का संघर्ष

मोटरगाड़ी और मोटरगाड़ी के पुर्जे बनाने वाले की पूरे उद्योग में पूंजीपतियों ने यह सुनिश्चित किया है कि मज़दूरों को स्थाई मज़दूर और ठेके पर काम करने वाले मज़दूर के आधार पर बांट कर रखा जाए।

आगे पढ़ें