ठेकेदारी व्यवस्था तथा बाहर के स्रोत से काम करवाने के खिलाफ़ वोल्टास के मज़दूरों का विरोध

22 जुलाई, 2011 को वोल्टास एम्प्लाइज़ यूनियन द्वारा आयोजित क्रमिक भूख़ हड़ताल को 100 दिन पूरे हो रहे हैं। यह हड़ताल मुम्बई के चिंचपोकली में स्थित कम्पनी मुख्यालय के सामने जारी है। वोल्टास लिमिटेड, यह टाटा ग्रुप की कम्पनी है। 2009-10 में उसकी बिक्री के आंकड़े करीबन 4000करोड़ रु. थे, और कर पूर्व मुनाफ़ा 300 करोड़ रु. के ऊपर था।

मज़दूरों की चार मुख्य मांगे हैं:-

आगे पढ़ें

एयर इंडिया के सभी यूनियनों का एकजुट संघर्ष

संपादक महोदय,

“एयर इंडिया को बचाने के लिए एयर इंडिया के सभी यूनियनों का एकजुट संघर्ष” शीर्षक वाले इस लेख को पार्टी की वेबसाइट पर पढ़ा। साथ ही साथ, एयर इंडिया पाइलट की मुख्य यूनियन आई.सी.पी.ए. द्वारा लोक राज संगठन और वेस्टर्न रेलवे मोटरमैन एसोसिएशन को लिखे गए पत्र सहित संघर्ष से सम्बंधित अन्य सामग्री प्रकाशित करने के लिए मैं आपको धन्यवाद देता हूँ।

आगे पढ़ें

भूमि अधिग्रहण कानून: कम्युनिस्टों को ज़मीनी हक़ीक़त का जायज़ा लेना चाहिए

संपादक महोदय,

भूमि अधिग्रहण (संशोधन) बिल पर जानकारी से परिपूर्ण लेख प्रकाशित करने के लिए, मैं पार्टी को धन्यवाद देता हूँ।

आगे पढ़ें

प्रबंधन की चाल के खिलाफ़ मारूती-सुजुकी के श्रमिक एकजुट

10 जुलाई, 2011 को हरियाणा के जिला गुड़गांव स्थित मारूती-सुजुकी के मानेसर प्लांट के श्रमिकों ने मारूती-सुजुकी इंप्लाइज यूनियन के झंडे तले ताऊ देवीलाल स्पोर्ट काम्प्लेक्स में सभा आयोजित की। यह सभा प्रबंधकों द्वारा श्रमिकों की एकता को तोड़ने के लिए फैलाये जा रहे अफवाहों और प्लांट के श्रमिकों के समक्ष आने वाली समस्याओं पर चर्चा के लिए आयोजित की गई थी।

आगे पढ़ें

देशभर के डाक कर्मचारी संघर्ष की राह पर

सेंट्रल पोस्टल ज्वाइंट कौंसिल ऑफ एक्शन ने घोषित किया है कि देशभर के पोस्टल कर्मचारी संघर्ष तेज करेंगे। यह भी हो सकता है कि वे अनिश्चित हड़ताल करें।

“डाकिया डाक लाया, डाकिया डाक लाया” यह गाना जिनके बारे में हम सभी बचपन में गाया करते थे और जिन्हें अपने दरवाजे पर देखने से ऑंखें चमक उठा करती थीं, उन डाकियों का क्या दर्द है?

आगे पढ़ें

कोयम्बतूर कपड़ा उद्योग मज़दूर हड़ताल पर

नेशनल टेक्सटाईल कॉर्पोरेशन (एन.टी.सी.) की कोयम्बतूर में स्थित पांच कपड़ा मिलों के मज़दूरों ने 5जुलाई, 2011को आंशिक हड़ताल की। वे प्रबंधन द्वारा तीन पारियों से उत्पादन घटा कर दो पारियों में करने का विरोध कर रहे थे। पांचों मिलों में कुल 3,500मज़दूर काम करते हैं। इनमें से करीब

आगे पढ़ें

कोल इंडिया मज़दूर हड़ताल की तैयारी में

कोल इंडिया के मज़दूरों ने घोषणा कर दी है कि 8अगस्त, 2011से वे तीन दिन की हड़ताल पर जाने वाले हैं। प्रबंधन के साथ बातचीत असफल होने के बाद यहां की पांच प्रमुख यूनियनों ने मिल कर यह फैसला लिया है। मज़दूर गुस्साये हैं कि उनके वेतन का संशोधन 1जुलाई, 2011से होना था परन्तु प

आगे पढ़ें

भूमि अधिग्रहण (संशोधन) बिल: किसके हित में और किस इरादे से?

कोई भी कानून जो पूंजीपतियों के हित में और किसानों या आदिवासियों की मर्जी के खिलाफ़, कृषि भूमि, वन भूमि या खनिज संपन्न भूमि, का अधिग्रहण करने की इजाज़त देता है, वह किसानों और आदिवासियों के मूल अधिकारों का हनन करता है और उसका विरोध करना चाहिये। भूमि अधिग्रहण अधिनियम में प्रस्तावित संशोधनों का मकसद है अधिकतम मुनाफे कमाने के लिये जमीन प्राप्त करने के पूंजीवादी इजारेदारों के “अधिकार” को वैधता देना।

आगे पढ़ें

महंगाई के खिलाफ़ मजदूरों का प्रदर्शन

23 जून, 2011 को दिल्ली के विभिन्न ट्रेड यूनियनों ने संयुक्त रूप से महंगाई के खिलाफ़ विरोध दिवस मनाते हुये, जंतर-मंतर पर धरना दिया। कांग्रेस नीत संप्रग सरकार से पेट्रोल-डीजल तथा अन्य जरूरी सामग्रियों की कीमतों को कम करने की मांग की गई।

आगे पढ़ें

महाराष्ट्र में तारापुर के लोगों का अनुभव

सरकार पीडि़त लोगों की परवाह किये बिना परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम चला रही है

सरकार परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम को बड़े पैमाने पर चला रही है। महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, तामिलनाडु, गुजरात आदि जैसे कुछ राज्यों में लोग इसका डटकर विरोध कर रहे हैं। पर कई नेता और सरकारी वक्ता परमाणु प्लांट के आस-पास रहने वाले लोगों को होने वाले खतरों पर पर्दा डालने की कोशिश कर रहे हैं। देश भर में वैज्ञानिक और जनहित कार्यकर्ता इन कोशिशों का पर्दाफाश कर रहे हैं।

आगे पढ़ें