अपने अधिकारों के लिये, बंगाल के चाय बाग़ान मज़दूर संघर्ष की राह पर

उत्तरी बंगाल और असम के चाय बागान मज़दूर संघर्ष की राह में उतरे हैं। वे अपने बेहिसाब शोषण के खिलाफ़ लड़ रहे हैं।

25 जुलाई, 2011 को प्रोग्रेसिव टी वर्कर्स यूनियन (पी.टी.डब्ल्यू.यू.) के तले संगठित चाय बागान मज़दूरों ने वेतन में वृद्धि की मांग लेकर चाय बागानों से चाय भेजना बंद कर दी।

पश्चिम बंगाल में भी 25तारिख को इसी मांग को लेकर सभी चाय बागानों में प्रदर्शन किये गये।

आगे पढ़ें

कश्मीर के सरकारी कर्मचारियों के प्रदर्शन पर हमला

14 जुलाई 2011 को जम्मू और कश्मीर सरकार के हजारों कर्मचारियों ने संयुक्त कृति समिति (जे.सी.सी.) के बुलावे पर, छठे वेतन आयोग के बकाया वेतन चुकाने, दैनिक मज़दूरों को नियमित करने, सेवानिवृत्ति की उम्र को 58 से बढ़ा कर 60 करने और आंगनवाड़ी मज़दूरों के वेतन में वृद्धि की मांगों को लेकर श्रीनगर में प्रदर्शन किया।

आगे पढ़ें

वोल्टास के मज़दूरों का संघर्ष तेज़ हुआ

वोल्टास के मज़दूरों के क्रमिक भूख हड़ताल के 22 जुलाई, 2011 को 100 दिन पूरे हुये। इस अवसर पर, मुंबई स्थित इस टाटा कंपनी के मुख्यालय पर एक गेट सभा की गयी, जिसमें सैकड़ों मज़दूरों ने हिस्सा लिया।

आगे पढ़ें

मारूती-सुजुकी मजदूरों ने यूनियन के चुनाव का बहिष्कार किया

मानेसर स्थित मारूती-सुजुकी प्लांट के मजदूरों की इच्छा के खिलाफ़, प्रबंधक ने 16 जुलाई, 2011 को कंपनी द्वारा मान्यता प्राप्त यूनियन के पदाधिकारियों का चुनाव आयोजित किया।

आगे पढ़ें

दिल्ली मेट्रो ठेका मजदूरों ने अपना अधिकार मांगा

16 जुलाई, 2011 को दिल्ली मेट्रो में काम करने वाले ठेका मजदूरों ने जन्तर-मन्तर पर विरोध प्रदर्शन किया। ये मजदूर दिल्ली मेट्रो कामगार यूनियन (डी.एम.के.यू.) के अगुवाई में श्रम कानूनों के उल्लंघन के खिलाफ़ एकत्रित हुये। इस यूनियन में टिकट विक्रेता, सफाई कर्मचारी और सिक्योरिटी गार्ड शामिल थे।

आगे पढ़ें

गोवा बंदरगाह मजदूरों की हड़ताल

15 जुलाई, 2011 को मोर्मुगोवा पोर्ट ट्रस्ट (एम.पी.टी.) में काम करने वाले मजदूरों ने हड़ताल किया। इस हड़ताल का ऐलान एम.पी.टी. के 6मजदूर संगठनों ने किया। यह हड़ताल मैकेनिकल और हैन्डलिंग प्लांट (एम.ओ.एच.पी.) बर्थ नम्बर 11, तथा “मूरिंग डॉलफिन्स” के निजीकरण के प्रस्ताव के खिलाफ़ की गयी। एम.पी.टी. का मैनेजमेंट यह कह कर निजीकरण को सही ठहरा रहा है कि एम.ओ.एच.पी. में घाटा हो रहा है।

आगे पढ़ें

मजदूर वर्ग की पहचान की हिफ़ाज़त में

 1 पूंजीवादी अर्थशास्त्री और पत्रकार प्रतिदिन मजदूर वर्ग के बारे में – उसकी संख्या, गठन और क्रांतिकारी गुणों के बारे में – झूठा प्रचार करते रहते हैं। इसमें सबसे मुख्य प्रचार यह है कि मजदूर वर्ग अल्पसंख्या में है जबकि समाज में “मध्यम वर्ग” बहुसंख्या में है।

आगे पढ़ें

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के चौथे महाअधिवेशन के दस्तावेज़ (28-31 अक्तूबर, 2010)

3rdcongress-cover.jpg
प्रथम प्रकाशन, जुलाई 2011

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी का चौथा महाअधिवेशन अक्तूबर 2010 के अंतिम सप्ताह में सम्पन्न हुआ था। चौथे महाअधिवेशन में पूरे देश से तथा विदेश निवासी हिन्दोस्तानियों में से प्रतिनिधि उपस्थित थे। अधिकतम प्रतिनिधि मजदूर वर्ग से थे। लगभग आधे प्रतिनिधि 25 वर्ष से कम उम्र के थे और एक तिहाई महिलायें थीं। चौथे महाअधिवेशन की रिपोर्ट कामरेड लाल सिंह द्वारा, तीसरे महाअधिवेशन में चुनी गई केन्द्रीय समिति की ओर से, पेश की गई। इस पर लंबी चर्चा हुई और महाअधिवेशन ने इसे स्वीकार किया। चौथे महाअधिवेशन के फैसले के अनुसार, इसे प्रकाशन के लिये संपादित किया गया है। इस प्रकाशन में चौथे महाअधिवेशन द्वारा अपनाये गये प्रस्ताव भी शामिल हैं।

पी.डी.एफ. डाउनलोड करनें के लिये चित्र पर क्लिक करें

आगे पढ़ें

मुंबई में 13 जुलाई के आतंकवादी हमलों की निन्दा करें!

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी मुंबई में 13 जुलाई, 2011 को तीन जगहों पर हुये आतंकवादी हमलों की निन्दा करती है।

इस अखबार के प्रकाशन के समय, सरकारी आंकड़ों के अनुसार 27लोगों की मौत हुई है और समाचार सूत्रों के अनुसार, लगभग सैकड़ों लोग बुरी तरह घायल हुये हैं। बहुत से लोगों की भारी आर्थिक क्षति भी हुई है। मृत लोगों के परिवारों, जीवन-मौत के बीच जूझ रहे लोगों, बुरी तरह घायल लोगों और आर्थिक क्षति के शिकार बने लोगों को हमारी पार्टी दिल से हमदर्दी प्रकट करती है। जैसा कि पहले भी हुआ है, इस बार भी मुंबई के लोगों ने धर्म और इलाके के भेदभाव की परवाह किये बिना, आगे आकर पीडि़तों की मदद की।

आगे पढ़ें