इम्फाल में बैंक मजदूरों की जुझारू रैली

5 अगस्त, 2011 को देश भर में बुलाई गयी बैंक की हड़ताल के दिन मणिपुर की राजधानी इम्फाल में तीन सौ से ज्यादा बैंक कर्मचारियों ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के सामने रैली में हिस्सा लिया। मुख्य वक्ताओं में शामिल थे यूनिटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन (यू.एफ.बी.यू., मणिपुर राज्य कमेटी) के भूतपूर्व निमंत्रक  श्री रोहिणी कुमार सिंह, बैंक एम्पलाइज फेडरेशन ऑफ इंडिया के श्री बिजोय सिंह, यू.एफ.बी.यू., मणिपुर रा

आगे पढ़ें

मणिपुर में शिक्षकों की अनिश्चितकालीन हड़ताल

पिछले 2 वर्ष 6 महीने से, जब से मानव संसाधन मंत्रालय ने 31 दिसम्बर, 2008 से यू.जी.सी. के लिए संशोधित वेतन की घोषणा की है, तब से मणिपुर के कालेज शिक्षक इन सिफारिशों की अमल की मांग करते आये हैं।

आगे पढ़ें

गोरखपुर परमाणु परियोजना रद्द करो!

25 जुलाई, 2011 को हरियाणा के फतेहाबाद शहर और 80 गांवों के लोगों तथा विभिन्न जन संगठनों ने गोरखपुर परमाणु परियोजना को रद्द करने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया।

आस-पास की 31 गांवों की ग्रामसभाओं की पंचायतों ने गोरखपुर परमाणु परियोजना के खिलाफ़ प्रस्ताव पास किया है। इसको लेकर 346 दिन से किसान संघर्ष समिति के लोग फतेहाबाद मिनी सचिवालय पर धरना देकर बैठे हैं।

आगे पढ़ें

पंजाब में किसानों पर पुलिस लाठीचार्ज में एक किसान की मौत

पंजाब के मानसा जिले के गांव गोविन्दपुरा में जबरदस्ती भूमि अधिग्रहण के खिलाफ़ पिछले तीन हफ्ते से चलाये जा रहे संघर्ष में 2 अगस्त को एक नया मोड़ आ गया, जब पुलिस द्वारा किसानों पर किये गये लाठी चार्ज में एक किसान की मौत हो गयी। मानसा की ओर जा रहे किसानों के काफिले पर धनौला के नजदीक के गांव कोटदुन्ना में पुलिस द्वारा अंधाधुंध लाठीचार्ज में अनेकों किसान गंभीर रूप से जख़्मी हो गये और एक किसान की म

आगे पढ़ें

जनता के विरोध-प्रदर्शन पर गोलियां बरसाने वाली सरकार मुर्दाबाद!

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की महाराष्ट्र इलाका समिति का बयान, अगस्त 2011

9 अगस्त के दिन, तलेगांव (पुणे) के नज़दीक मावल में, प्रदर्शन करने वाले किसानों पर अंधाधुंध गोलियां बरसा कर, राज्य ने अपना असली फासीवादी चेहरा फिर दिखा दिया। उस गोलीबारी में दर्जनों घायल हुए तथा 3 किसानों की मृत्यु हुई। उस गोलीबारी की छवियां जो अख़बारों में छपी हैं, उनसे साफ होता है कि पूरी सोच समझ से तथा जान-बूझकर गोलियां चलाई गयी थीं, और वह भी जान लेने के इरादे से!

आगे पढ़ें

हिरोशिमा की 66वीं सालगिरह पर साम्राज्यवाद तथा युद्ध का अंत करने का आह्वान

6 अगस्त, 2011, यह उस भयानक अपराध की सालगिरह है, जो अमरीकी साम्राज्यवादियों ने जापानी लोगों के खिलाफ़ – बच्चों,महिलाओं तथा पुरुषों सहित नागरिकों के खिलाफ़ – किया था। 66 साल पहले, अमरीका ने जापान के दो शहरों पर अणु बम गिराये थे। 6 अगस्त, 1945 को हिरोशिमा के ऊपर तथा 9अगस्त, 1945 को नागासाकी के ऊपर अणु बमों के धमाके किये थे। उसकी वजह से दो महीनों के अंदर-अंदर ही करीब 3लाख महिलाओं, पुरुषों तथा बच

आगे पढ़ें

हिन्दोस्तानी राज्य अफगानिस्तान में बड़ी सत्ता का खेल खेल रहा है

करीब दस साल पहले, 7 अक्तूबर, 2001 के दिन अमरीकी साम्राज्यवादियों ने, अफगानिस्तान पर हमला किया। वे आज तक वहां पर जमे हुए हैं। “आतंकवाद के खिलाफ़ जंग” के बहाने उन्होंने उस देश में घुसपैठ की है, खुद के पसंद के लोगों को राज पर बिठाया है, पहाडि़यों पर तथा देहातों पर भारी बमबारी की है तथा दसियों-हजारों लोगों को घायल किया है व हत्या की है। प्राचीन इतिहास तथा व्यापार के कई मार्गों के संग

आगे पढ़ें

“भ्रष्टाचार की जड़ें” पर पैनल परिसंवाद

8 अगस्त, 2011 को दिल्ली में लोक राज संगठन ने “भ्रष्टाचार की जड़ें” विषय पर एक पैनल परिसंवाद का आयोजन किया। जिसे खुल्लम-खुल्ला तौर पर मंत्री, पूंजीपति, दलाल, अफसरशाह, न्यायाधीश, संसद और विधानसभाओं के सदस्य राजकोष को लूट रहे हैं, उसके प्रति मेहनतकश लोगों और बुद्धिजीवियों के जबरदस्त गुस्से और चिंता के परिप्रेक्ष्य में, इस विचार विमर्श गोष्ठी का बहुत महत्व है।

आगे पढ़ें