सड़क परिवहन मजदूरों ने अंतर्राष्ट्रीय संघर्ष दिवस मनाया

3 अक्तूबर, 2011 को सड़क परिवहन मजदूरों के राष्ट्रीय फेडरेशन, नेशनल फेडरेशन ऑफ रोड ट्रांसपोर्ट वर्कर्स (एन.एफ.आर.टी.डब्ल्यू.) ने अंतर्राष्ट्रीय संघर्ष दिवस मनाया, यह उनके महासचिव कामरेड एम.एल. यादव ने बताया। एन.एफ.आर.टी.डब्ल्यू. ट्रेड यूनियन इंटरनेशनल-ट्रांसपोर्ट से संबंधित है।

आगे पढ़ें

मुंबई में नर्सो की हड़ताल

एशियन हार्ट इंस्टिट्यूट अस्पताल के प्रबंधन की बर्बरता से तंग आकर आखिरकार 250 से ज्यादा नर्सों ने बगावत कर ही दी। हड़ताल के तीसरे दिन 21 अक्तूबर को पुलिस ने उन पर लाठियां बरसाईं, जिसमें 4नर्सें घायल हुईं। अस्पताल का मैनेजमेंट जब उन्हें ट्रेनिंग पर रखता है तब उनसे 2 साल का बाँड लिखवा लेता है और साथ-साथ उनके सभी ओरिजिनल सर्टिफिकेट अपने पास रख लेता है। काम के हालात से परेशान कोई नर्स अगर काम छोड

आगे पढ़ें

भारतीय रेल के इंजन चालकों की न्याय-संगत मांगों का समर्थन करें!

यह बयान संयुक्त रूप से भारतीय रेल के इंजन चालकों के समर्थन में हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी सहित लोक राज संगठन, ऑल इंडिया लोको रनिंग स्टाफ एसोसिएशन, ऑल इंडिया रेलवे एम्प्लॉइज फेडरेषन, वेस्टर्न रेलवे मोटरमैन्स एसोसिएशन, एयर इंडिया एयरक्राफ्ट इंजीनियर्स एसोसिएशन, एयर इंडिया एम्प्लॉइज यूनियन, एयरपोर्ट अथारिटी ऑल इंडिया एम्प्लॉइज यूनियन, ऑल इंडिया सर्विस इंजीनियर्स एसोसिएशन, ऑल इंडिया व

आगे पढ़ें

विदेश में हिन्दोस्तानी मजदूरों के शोषण के प्रति सरकार की लापरवाही

अखबारों में छपी हाल की रिपोर्टों के अनुसार, किसी ठेकेदार ने 15 मजदूरों को ओडिसा से दक्षिण अफ्रीका भेजने का समझौता किया और अकुशल श्रमिकों को प्रति माह 15000 रुपये तथा अर्धकुशल श्रमिकों, जैसे बेलदार और प्लंबर, को प्रतिमाह 16000 रुपये देने का वादा किया। परंतु मजदूरों को युगांडा भेज दिया गया और वहां उन्हें अत्यधिक शोषण का सामना करना पड़ा।

आगे पढ़ें

मारूती-सुजुकी के मजदूरों और प्रबंधकों के बीच समझौता

14 दिन के लंबे संघर्ष के उपरांत मारूती-सुजुकी इंप्लाइज यूनियन और उनके समर्थन में उतरी सुजुकी पावरट्रेन इंप्लाईज यूनियन तथा सुजुकी मोटरसाईकिल इंप्लाईज यूनियन के साथ, प्रबंधन को 20 अक्तूबर, 2011 को हरियाणा सरकार की मध्यस्थता में समझौता करना पड़ा।

आगे पढ़ें

मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ़ गुड़गांव के मजदूरों का विशाल प्रदर्शन

17 अक्तूबर, 2011 को मारूती-सुजुकी के मजदूरों के समर्थन में गुड़गांव स्थित नेहरू पार्क में एक विशाल रैली आयोजित की गई। गुड़गांव तथा मानेसर स्थित औद्योगिक क्षेत्र की कई कंपनियों के मजदूरों ने इस रैली में शामिल होकर केन्द्र और राज्य सरकार क

आगे पढ़ें

मारूती-सुजुकी के मजदूरों के समर्थन में प्रदर्शन

15 अक्तूबर, 2011 को मारूती-सुजुकी के मजदूरों के संघर्ष के समर्थन में मजदूर एकता कमेटी, आल इंडिया फेडरेशन आफ ट्रेड यूनियंस, इंकलाबी मजदूर केंद्र, इंडियन फेडरेशन आफ ट्रेड यूनियन, इंडियन काउंसिल आफ टेªड यूनियंस, मजदूर एकता केन्द्र सहित कई अन्य संगठनों के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने संयुक्त रूप से दिल्ली स्थित जंतर-मंतर पर प्रदर्शन किया और मारूती-सुजुकी के प्रबंधन तथा हरियाणा सरकार का पुतला फूं

आगे पढ़ें
3rdcongress-cover.jpg

कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के चौथे महाअधिवेशन के दस्तावेज

3rdcongress-cover.jpgकम्युनिस्ट ग़दर पार्टी का चौथा महाअधिवेशन अक्टूबर २०१० के अंतिम सप्ताह में आयोजित किया गया था.

कामरेड लाल सिंह ने तीसरे महाधिवेशन द्वारा चुनी गयी केंद्रीय समिति की ओर से चौथे महाअधिवेशन की रिपोर्ट पेश कि. इस रिपोर्ट पर  विस्तारपूर्वक चर्चा की गयी और इसे स्वीकार किया गया. चौथे महाअधिवेशन के फैसले के अनुसार इसे छापने के लिए सम्पादित किया गया है. इस दस्तावेज में चौथे महाअधिवेशन द्वारा पारित किये गए फैसले भी मौजूद है.

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

आगे पढ़ें

उदारीकरण और निजीकरण कार्यक्रम के बीस साल पर मज़दूर वर्ग का दृष्टिकोण

24 जुलाई, 1991 के दिन को हमारे देश के इजारेदार पूंजीपति घरानों ने ऐतिहासिक दिन बताया। इस दिन मनमोहन सिंह, जो नरसिंह राव सरकार में वित्तमंत्री थे, उन्होंने अपने बजट भाषण में उदारीकरण और निजीकरण के जरिये हिन्दोस्तानी पूंजी के वैश्वीकरण के कार्यक्रम को पेश किया। इजारेदार पूंजीपति, मीडिया के जरिये प्रचार कर रहे हैं कि हिन्दोस्तान में स्वर्ण अवधि की शुरुआत करने के लिये मनमोहन सिंह की प्रशंसा की ज

आगे पढ़ें