tea-workers-protest


उत्तरी बंगाल के चाय बागानों के मज़दूर अपनी ज़मीन पर अधिकार की मांग कर रहे हैं

उत्तरी बंगाल में चाय बगानों के मज़दूर राज्य सरकार द्वारा उन्हें उनकी ज़मीन के अधिकार से वंचित करने के प्रयासों का विरोध कर रहे हैं। उनके संघर्ष के लिए समर्थन जुटाने के लिए ग्राम संसद की बैठकों का ज़ोरदार अभियान चलाया जा रहा है।

आगे पढ़ें
Delivery ‘partners


जोमैटो डिलीवरी मज़दूर भेदभाव का कड़ा विरोध किया

डिलीवरी मज़दूरों की “रंग-कोडिंग” से उन्हें “भेदभाव का सामना करना पड़ सकता है और यहां तक कि अपने ख़िलाफ़ हिंसा के होने की संभावानाएं पैदा हो जायेंगी… मज़दूरों के बीच इस आधार पर भेदभाव नहीं किया जाना चाहिये कि वे किस प्रकार की डिलीवरी कर रहे हैं”।

आगे पढ़ें
Home Guard


दिल्ली के होम गार्ड्स का आन्दोलन


दिल्ली के होम गार्ड्स इन दिनों अपनी नौकरियों को बचाने के लिए आन्दोलन कर रहे हैं। हाल में दिल्ली होम गार्ड महानिदेशालय द्वारा जारी की गयी एक अधिसूचना से होम गार्ड बहुत चिंतित हैं। यह अधिसूचना दिल्ली में 10,285 होम गार्डों की भर्तियों के लिये निकाली गयी है। ऑन-लाइन आवेदन देने की अंतिम तारीख 13 फरवरी थी और नयी भर्तियां 31 मार्च तक होनी हैं। मौजूदा होम गार्ड, जो संख्या में 8,624 हैं, को इस बात की शंका है कि इस बड़े पैमाने पर नयी भर्तियां किये जाने के बाद, उनकी अब तक चल रही नौकरियां ख़त्म हो जायेंगी।

आगे पढ़ें
Kisan_mahapanchayat


दिल्ली में किसान-मज़दूर महापंचायत

मज़दूर एकता कमेटी के संवाददाता की रिपोर्ट


14 मार्च, 2024 को नई दिल्ली के रामलीला मैदान में संयुक्त किसान मोर्चा की अगुवाई में विशाल किसान-मज़दूर महापंचायत आयोजित की गई। अनुमान है कि इसमें 40 हजार से ज्यादा किसानों ने हिस्सा लिया।

आगे पढ़ें
Italy_Rome


पूरे यूरोप में किसानों के शक्तिशाली विरोध प्रदर्शन

यूरोपीय आयोग लगातार किसानों को दी जाने वाली सब्सिडी में कटौती कर रहा है। ऊर्जा की बढ़ती लागत और बढ़ते ख़र्चों के साथ-साथ कृषि के लिए राज्य द्वारा दी जा रही सब्सिडी में कटौती, किसानों और कृषि मज़दूरों की आय को कम से कम कर रही है।

आगे पढ़ें
UN_Relief_and_Works_Agency


फ़िलिस्तीनी लोगों के जनसंहार को उचित ठहराने के लिए झूठे प्रचारों की मुहिम

गाज़ा में जो कुछ चल रहा है, उसके बारे में सच्चाई को सामने लाने के लिए प्रतिबद्ध पत्रकारों द्वारा की गई जांच ने, फ़िलिस्तीनी मुक्ति सेनानियों के बारे में झूठ फैलाकर, फ़िलिस्तीनी लोगों के जनसंहार को उचित ठहराने की इज़रायल और अमरीकी साम्राज्यवादियों की पैशाचिक योजनाओं का पर्दाफ़ाश किया है।

आगे पढ़ें


महाराष्ट्र में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया

8 मार्च, 2024 को भिवंडी जन संघर्ष समिति (बीजेएसएस) ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने के लिए एक सभा का आयोजन किया। … ठाणे में पुरोगामी महिला संगठन (पीएमएस), भारतीय महिला फेडरेशन (बीएमएफ), जमात-ए-इस्लामी हिंद, और फातिमा शेख स्टडी सर्कल (एफएसएससी, मुंब्रा) ने संयुक्त रूप से अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने के लिए एक सभा की। कार्यक्रम रविवार 10 मार्च को आयोजित किया गया था।

आगे पढ़ें
Bristol_rally


गाज़ा जनसंहार में ब्रिटिश विश्वविद्यालयों की मिलीभगत के खि़लाफ़ प्रदर्शन

ब्रिटेन के छात्रों ने गाज़ा में हजारों फ़िलिस्तीनी लोगों को मारने के लिये जारी जनसंहार में  उनके विश्वविद्यालयों की भागीदारी पर ध्यान आकर्षित करने के लिए, हाल के हफ़्तों में, तीन विश्वविद्यालयों में क़ब्ज़ा किया। ”विश्वविद्यालय तत्काल युद्धविराम का आह्वान करें“, ”हथियार कंपनियों के साथ संबंध तोड़ दें“ और ”विस्थापित फ़िलिस्तीनी छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान करें“ – इन मांगों को लेकर, दक्षिण-पश्चिम इंग्लैंड में स्थित ब्रिस्टल विश्वविद्यालय के छात्रों ने शहर के केंद्र में विश्वविद्यालय एक प्रतिष्ठित भवन, विक्टोरिया रूम्स, पर क़ब्ज़ा किया था।

आगे पढ़ें

पूर्वाेत्तर दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा के चार साल बाद:
गुनहगार खुले घूम रहे हैं, जबकि बेगुनाह जेल में पीड़ित हैं!

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी मांग करती है कि पीड़ितों और लोगों की एकता की रक्षा के लिए लड़ने वाले कार्यकर्ताओं के खि़लाफ़ झूठे आपराधिक मामले तुरंत वापस लिए जाने चाहिए। जेल में बंद लोगों को तुरंत रिहा किया जाना चाहिए। यह बेहद अन्याय है कि अपराध के वास्तविक आयोजक खुले घूम रहे हैं, जबकि पीड़ितों पर आरोप लगाए जा रहे हैं, उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है और जेल में बन्द रखा जा रहा है।

आगे पढ़ें

पैरिस कम्यून की सालगिरह:
श्रमजीवी लोकतंत्र ही असली लोकतंत्र है

इस महीने में एक ऐसी घटना की 153वीं सालगिरह है, जिसमें मज़दूर वर्ग ने पहली बार शोषक वर्गों की हुकूमत के खि़लाफ़ उठ खड़ा होकर, अपनी खुद की, पूरी तरह से नई, राज्य सत्ता स्थापित की थी। पैरिस कम्यून के नाम से मशहूर, 1871 में फ्रांस में मज़दूर वर्ग की इस उपलब्धि की दुनियाभर में सराहना की जाती है, क्योंकि इसने मानव जाति के इतिहास में एक नए युग की शुरुआत की थी।

आगे पढ़ें