चीनी प्रधानमंत्री की हिन्दोस्तान यात्रा

चीनी प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ की हाल की हिन्दोस्तान यात्रा के दौरान समाचार माध्यम की प्रतिक्रिया में मुख्य तौर पर वे दो विचार आगे रखे गये जिनका हिन्दोस्तानी राज्य प्रचार करना चाहता था – कि चीन एक महाशक्ति है और एक प्रतिस्पर्धी भी। आगे पढ़ें

डा. बिनायक सेन को दोषी ठहराये जाने के खिलाफ : राजकीय आतंकवाद के खिलाफ़ व ज़मीर के अधिकार की हिफाज़त में संघर्ष को आगे बढ़ाएं

24 दिसम्बर, 2010 को रायपुर सेशंस कोर्ट ने डा. बिनायक सेन को ”देशद्रोह” और ”हिन्दोस्तानी राज्य के खिलाफ़ जंग छेड़ने” के लिए दोषी ठहराया और उन्हें आजीवन कारावास की सज़ा दी। आई.पी.सी., छत्तीसगढ़ स्पेशल पब्लिक सेफ्टी एक्ट और यू.ए.पी.ए.

आगे पढ़ें

देश के नवनिर्माण के लिये संघर्ष तेज़ करें!हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का नव वर्ष संदेश

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति पार्टी के सभी सदस्यों और समर्थकोंआगे पढ़ें

जंग फरोश अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा वापस जाओ! 8 नवम्बर, 2010 को संसद पर आयोजित संयुक्त रैली के अवसर पर जारी बयान

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ऐसे समय पर हिन्दोस्तान आ रहा है जब इराक और अफगानिस्तान पर अमरीकी साम्राज्यवादी कब्ज़ा जारी हैआगे पढ़ें

महान अक्तूबर क्रांति आज भी मज़दूर वर्ग और लोगों को आगे बढ़ने के लिये मार्गदर्शन करती है

7 नवम्बर रूस की महान अक्तूबर क्रांति की सालगिरह है। इस दिन, मानव जाति के इतिहास में पहली बार, मज़दूर वर्ग ने पूंजीपति वर्ग के शासन को उखाड़ फेंका और अपना खुद का राज स्थापित किया – श्रमजीवी अधिनायकत्व का राज्य।

मज़दूर वर्ग की राज्य सत्ता ने, मेहनतकश लोगों को शोषण, दमन और गरीबी से, कम से कम वक्त में मुक्त किया और विभिन्न क्षेत्रों में अपनी उपलब्धियों से पूरी दुनिया को चकित कर दिया।

आगे पढ़ें

फ्रांस में मजदूरों के विशाल प्रदर्शन जारी हैं!

सेवा निवृत्ति और पूरी पेंशन पाने के लिए न्यूनतम उम्र के बढ़ाये जाने की फ्रांस की सरकार की कोशिशों के खिलाफ़ मजदूरों के विशाल प्रदर्शन अक्तूबर 2010 के महीने में पूरे देश में जारी रहे।

आगे पढ़ें

ओबामा के दौरे का विरोध और दक्षिण एशिया में शांति के लिये दिल्ली में जोशीला प्रदर्शन

8 नवम्बर, 2010 की सुबह सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने हमारे देश में अमरीकी राष्ट्रपति ओबामा के दौरे के खिलाफ़, मंडी हाऊस से संसद तक विरोध जुलूस निकाला। हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी, सोशलिस्ट युनिटी सेंटर ऑफ इंडिया (कम्युनिस्ट), जमात ए इस्लामी हिंद, लोक राज संगठन, आल इंडिया वर्कर्स काउंसिल, सी.पी.डी.एम., दिल्ली श्रमिक संगठन और जनपक्ष द्वारा आयोजित इस संयुक्त प्रदर्शन में मानो लाल झंडों और बैनरों

आगे पढ़ें