बी.ई.एस.टी. कर्मचारियों ने महीने भर चलने वाली बस हड़ताल की धमकी दी

मुंबई में लॉकडाउन के बाद बी.ई.एस.टी. (बेस्ट) बस सेवाओं को फिर से शुरू करने के एक दिन बाद, बस ड्राइवरों, कंडक्टरों और बेस्ट के अन्य सेवा कर्मचारियों ने एक महीने की लंबी हड़ताल पर जाने की धमकी दी है। बेस्ट ने 8 जून को पनवेल, विरार और बदलापुर से मुंबई के लिए सेवाएं शुरू की हैं।
BEST Bus Crowd_web
बी.ई.एस.टी. कर्मचारी पूरी तरह से उन ख़तरनाक परिस्थितियों का विरोध कर रहे हैं, जिनमें उन्हें काम करना पड़ता है, और इन परिस्थितियों से बेस्ट में सफर करने वालों को भी ख़तरा है। जैसे ही बस सेवायें शुरू हुईं, बड़ी संख्या में लोग काम पर जाने के लिए सार्वजनिक बस सेवाओं का उपयोग करने के लिए निकल पड़े, जिससे कोरोनावायरस संक्रमण से बचने के लिए आवश्यक किसी भी सावधानी का पालन करना असंभव हो गया।

सेवाओं के शुरू होने के बाद दूसरे दिन लगभग 2,300 बेस्ट बसों को तैनात किया गया था, लेकिन मुंबई महानगर क्षेत्र (एम.एम.आर.) में यात्रियों की भारी मांग को पूरा करने के लिए यह पूरी तरह से पर्याप्त नहीं था। बेस्ट प्रबंधन को बस में सवार होने से पहले यात्रियों की ’गिनती’ सुनिश्चित करने के लिए कई बस स्टॉप पर निरीक्षकों को तैनात करना पड़ा। बेस्ट मज़दूर यूनियन ने दावा किया है कि इसके बावजूद, बसों में यात्रा करने वाले लोगों के बीच दूरी बनाना असंभव है। भीड़भाड़ और बस ड्राइवरों और कंडक्टरों को संक्रमण फैलने के ख़तरे से चिंतित, बेस्ट वर्कर्स यूनियन ने 9 जून को घोषणा की कि वे मज़दूरों की सुरक्षा की देखभाल करने में प्रबंधन की विफलता के ख़िलाफ़ एक महीने का विरोध प्रदर्शन करेंगे।

जबकि बेस्ट प्रबंधन ने दावा किया है कि लगभग 5 लाख यात्रियों और मज़दूरों, जिन्होंने सेवा को फिर से शुरू करने के बाद पहले दिन बस सेवा का इस्तेमाल किया था, उन्हें “पर्याप्त सुरक्षा” और “सामाजिक दूरी बनाए रखा गया था”, बेस्ट मज़दूर यूनियन ने इस दावे को चुनौती दी है।

बी.ई.एस.टी. मज़दूरों ने घोषणा की है कि वे रोज़, कम से कम एक मुख्य बस डिपो के बाहर विरोध प्रदर्शन करेंगे। वे मुंबई महानगर क्षेत्र में, विभिन्न कार्यालयों के सुचारू संचालन को और बस सेवाओं को बाधित किए बिना, शांतिपूर्वक विरोध प्रदर्शन करेंगे। जो भी ड्राइवर और कंडक्टर उस दिन ड्यूटी पर हैं, वे इस विरोध प्रदर्शन में भाग नहीं लेंगे। विरोध प्रदर्शन मुख्य रूप से सुबह के व्यस्ततम समय 8:00-10:30 बजे के दौरान बस डिपो पर होगा। इस दौरान ही, संक्रमण से जुड़ी हुई सावधानियां और नियमों के उल्लंघन करने की संभावना होती है।

बी.ई.एस.टी. मज़दूर मांग कर रहे हैं कि प्रबंधन कोरोनावायरस महामारी के दौरान 54 बेस्ट मज़दूरों की मौतों के बारे में विवरण सार्वजनिक करें, जिनमें से कम से कम 8 मज़दूर, कोविड संक्रमण टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए थे। वे मज़दूरों को अलग क्वारेंटाइन में रहने के लिए 20 लोगों के लिए 20 बिस्तर, रहने की सुविधाओं की मांग कर रहे हैं। वे अपने सह-कर्मियों, जिनमे से लगभग 390 कोविड से संक्रमित पाए गये हैं, उनकी देखभाल के लिए, वडाला और डिंडोशी प्रशिक्षण केंद्रों में दो अस्थायी अस्पतालों की सुविधा की मांग कर रहे हैं। संक्रमण के जोखिम का सामना करने वाले यात्रियों के साथ अपनी सहानुभूति जताते हुए, उन्होंने बताया कि लोग हर दिन समय पर अपने कार्य स्थानों तक पहुंचने के लिए भीड़-भाड़ वाली बसों में सवार होने के लिए मजबूर होते हैं, क्योंकि उनके ऊपर अपनी नौकरी खोने का ख़तरा हमेशा मंडराता रहता है।

Share and Enjoy !

Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.