फ्रांस में रेल कर्मचारी अधिक वेतन की मांग को लेकर हड़ताल पर

6 जुलाई को, एस.एन.सी.एफ. (फ्रांस की राज्य के स्वामित्व वाली रेल कंपनी) के चार मज़दूर यूनियन – सी.जी.टी., यू.एन.एस.ए., एस.यू.डी.-रेल और सी.एफ.डी.टी. – हड़ताल पर चले गए। हड़ताल ने पूरे देश में रेल सेवाओं को ठप्प कर दिया।

6 जुलाई को, एस.एन.सी.एफ. (फ्रांस की राज्य के स्वामित्व वाली रेल कंपनी) के चार मज़दूर यूनियन – सी.जी.टी., यू.एन.एस.ए., एस.यू.डी.-रेल और सी.एफ.डी.टी. – हड़ताल पर चले गए। हड़ताल ने पूरे देश में रेल सेवाओं को ठप्प कर दिया।

एस.एन.सी.एफ. के अनुसार, हड़ताल के कारण चार हाई-स्पीड ट्रेनों में से एक को रद्द करना पड़ा, जबकि पेरिस और अन्य क्षेत्रों में उपनगरीय ट्रेनों जैसी क्षेत्रीय सेवाएं को बाधित हुईं।
रेलवे कर्मचारी वेतन में आम तौर पर और तात्कालिक वृद्धि की मांग कर रहे हैं। वे जीवन यापन की बढ़ते खर्च का सामना करने में असमर्थ हैं। इस महीने फ्रांस में मुद्रास्फीति की दर 5.9 प्रतिशत तक पहुंचने का अंदेशा है।
मज़दूरों ने बताया है कि एस.एन.सी.एफ. में, 2014 के बाद से आम तौर पर कोई वेतन वृद्धि नहीं हुई है। प्रवेश स्तर के वेतन बहुत कम हैं, यहां तक कि न्यूनतम मज़दूरी से 7 प्रतिशत तक कम है। जबकि रेलवे में बहुत ज्यादा तनाव वाला काम होता है, 3 शिफ़्ट का काम, रात का काम, शनिवार-रविवार का काम, आदि होता है, जिसके लिए बहुत कम वेतन दिया जाता है। एक शुरुआती स्विचमैन का उदाहरण देते हुए, एक यूनियन प्रवक्ता ने समझाया, “जब वह भर्ती होता है, तो उसके पास चार महीने का प्रशिक्षण होता है और बहुत महत्वपूर्ण कानूनी और परिचालन जिम्मेदारियां होती हैं, क्योंकि थोड़ी सी गलती से जान जा सकती है। और उसका वेतन 1,350 यूरो से शुरू होता है, जो गारंटीकृत न्यूनतम वेतन से सिर्फ 50 यूरो अधिक है!”


फ्रांस की रेलवे यूनियनों ने पिछले कुछ महीनों में कई बार प्रबंधन के समक्ष वेतन वृद्धि का मुद्दा उठाया है। 16 जून को, रेलवे मज़दूर यूनियनें – सी.जी.टी., यू.एन.एस.ए., एस.यू.डी.-रेल और सी.एफ.डी.टी. – ने संयुक्त रूप से वेतन वार्ता के लिए प्रबंधन से संपर्क किया। लेकिन प्रबंधन ने यूनियनों से द्विपक्षीय बैठकों में ही मुलाकात की और वेतन वृद्धि की मांग को लेकर 6 जुलाई को मज़दूरों के प्रतिनिधियों के साथ एक गोलमेज बैठक का वादा किया। मज़दूरों की मांगों के पक्ष में समाधान निकालने के लिए प्रबंधन पर अधिक से अधिक दबाव बनाने के लिए हड़ताल का आह्वान किया गया है।

रेल मज़दूरों ने घोषणा की है कि वे साल के अंत में वार्षिक वेतन वृद्धि का इंतजार नहीं कर सकते। 6 जुलाई की हड़ताल उनकी मांगों के समर्थन में संघर्ष जारी रखने के उनके दृढ़ संकल्प की एक शक्तिशाली अभिव्यक्ति है।

Share and Enjoy !

Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.