हिरोशिमा और नागासाकी पर बमबारी की 76वीं वर्षगांठ :
साम्राज्यवाद का मानवता के ख़िलाफ़ कभी भी माफ़ न करने के योग्य अपराध

6 अगस्त और 9 अगस्त 1945 को अमरीकी वायु सेना के विमानों ने जापान के शहरों हिरोशिमा और नागासाकी पर क्रमशः दो परमाणु बम गिराए। इतिहास में यह पहला और एकमात्र मौका था जब इतनी बड़ी संख्या में पुरुषों, महिलाओं और बच्चों को जानबूझकर मारने और नष्ट करने के लिए इतनी घातक क्षमता वाले हथियारों का इस्तेमाल किया गया था।

आगे पढ़ें

द्वितीय विश्व युद्ध की समाप्ति की 75वीं वर्षगांठ पर

भाग 5: युद्ध का अंत और विभिन्न देशों और लोगों के उद्देश्य

दूसरे विश्व युद्ध के अंत में, समाजवादी सोवियत संघ विजयी शक्तियों में से एक बड़ी शक्ति के रूप में उभरा। वह दुनियाभर के उन सभी लोगों के लिए एक प्रेरणा का स्रोत बन गया जो अपने देश को उपनिवेशवादी गुलामी से मुक्त करने के लिए लड़ रहे थे। दूसरी ओर अमरीकी साम्राज्यवाद एक प्रतिक्रियावादी, कम्युनिस्ट-विरोधी, साम्राज्यवादी खेमे के नेता के रूप में उभरकर सामने आया।

आगे पढ़ें