सार्वजनिक अस्पताल सारा बोझ उठा रहे हैं जबकि सरकार की सारी नीतियां निजी अस्पतालों और बीमा कंपनियों की ओर उन्मुख हैं

वर्तमान के संकट ने हमारी सार्वजनिक स्वास्थ्य व्यवस्था की अपर्याप्तता का पर्दाफाश कर दिया है।
इस वायरस से लड़ने के लिए नाकाम साबित हुए निजी अस्पतालों का भी पर्दाफाश हुआ।
इस सब के बावजूद सरकार सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं की जगह निजीकरण में निवेश कर रही है।
वर्तमान के संकट ने हमारी सार्वजनिक स्वास्थ्य व्यवस्था की अपर्याप्तता का पर्दाफाश कर दिया है।
इस वायरस से लड़ने के लिए नाकाम साबित हुए निजी अस्पतालों का भी पर्दाफाश हुआ।
इस सब के बावजूद सरकार सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं की जगह निजीकरण में निवेश कर रही है।

आगे पढ़ें

लोगों के अधिकार और राज्य के फर्ज़

कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सरकार द्वारा घोषित 21 दिन के लॉक डाउन के लगभग दस दिन पूरे हो चुके हैं। लॉक डाउन के पहले हफ्ते के अनुभव से कई समस्याएं सामने आयी हैं जिन्हें फौरी तौर पर हल करना होगा। यह एक सांझा संघर्ष है जिसमें सभी लोगों की भागीदारी की ज़रूरत है। इसमें सरकार के असरदार नेतृत्व की ज़रूरत है।

आगे पढ़ें