Farmers-Protest_Karnal_police_attack

करनाल में किसान प्रदर्शनकारियों पर हुए क्रूर हमले की निंदा

सरकार के किसान विरोधी कानूनों का विरोध कर रहे किसानों पर, 28 अगस्त को हरियाणा के करनाल के पास बस्तर टोल प्लाजा पर, पुलिस द्वारा बेरहमी से हमला किया गया था।

आगे पढ़ें

यह धर्म-युद्ध है मज़दूरों और किसानों का, अधर्मी राज्य के ख़िलाफ़!

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का बयान, 10 जनवरी, 2021

आज हमारे देश और पूरी दुनिया को हमारी सरकार और देश की बहुसंख्यक आबादी, किसानों और मजदूरों, के बीच में एक ऐसा विवाद नज़र आ रहा है, जिसका कोई हल नहीं दिखता है। 26 नवम्बर से दिल्ली की सीमाओं पर ऐसा विशाल जन-विरोध चल रहा है, जिसका इससे पहले किसी को अनुमान न था। जन-विरोध की फौरी मांगों में मुख्य मांग यह है कि उन तीनों कानूनों को रद्द किया जाये, जिन्हें संसद में पारित किया गया था और जिनके लागू होने पर इजारेदार पूंजीवादी कॉर्पोरेट घराने कृषि क्षेत्र पर पूरी तरह हावी हो जायेंगे।

आगे पढ़ें

किसान-विरोधी कानूनों को रद्द कराने के लिए किसानों ने पूरे देश में आंदोलन तेज़ किया

सिंघू, टिकरी, गाजीपुर, चिल्ला, धूना, औचंदी, पियू मनारी और सबोली सहित दिल्ली की सीमाओं के विभिन्न विरोध स्थलों पर जारी किसानों के विरोध प्रदर्शन ने 30 दिसंबर को 35वें दिन में प्रवेश किया। शाहजहांपुर और राजस्थान के पास राजस्थान-हरियाणा सीमा पर और पलवल के पास उत्तर प्रदेश-हरियाणा सीमा पर भी विरोध प्रदर्शन जारी है।

आगे पढ़ें