बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस विधेयक-2021 :  पुलिस की बढ़ती ताक़त

23 मार्च, 2021 को बिहार विधानसभा ने ‘बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस विधेयक-2021’ पारित किया। यह विधेयक बिना किसी वारंट के छापे मारने और गिरफ़्तारी करने की पुलिस को बेलगाम छूट देता है। इस विधेयक को विधानसभा में पारित करने के दौरान विपक्ष की पार्टियों के नेताओं ने इसका कड़ा विरोध किया है।

आगे पढ़ें

असम के चाय बाग़ानों के मज़दूरों के लिए झूठे चुनावी वादों का एक और दौर

हिन्दोस्तान में चुनाव का मौसम एक ऐसा समय होता है, जब चुनाव में उतरी राजनीतिक पार्टियां लोगों को बेवकूफ बनाने के लिए हर एक तरह के फरेब का इस्तेमाल करती हैं। असम में हो रहे विधानसभा के चुनावों में यह साफ नज़र आ रहा है, जहां चाय बाग़ान के मज़दूरों को मिलने वाला वेतन चुनावी मुद्दा बन गया है और हर एक पार्टी इसे बढ़ाने का एक से बढ़कर एक वादा किये जा रही है।

आगे पढ़ें

प्रदर्शनों के दौरान हुए नुकसान की भरपाई के लिए हरियाणा और उत्तर प्रदेश की सरकारों ने कानून बनाये :

जन प्रदर्शनों को कुचलने के लिए कानून

प्रदर्शनों के दौरान हुए नुकसान की भरपाई के लिए हरियाणा विधानसभा ने 18 मार्च, 2021 को एक विधेयक पारित किया। विपक्षी पार्टियों के सदस्यों द्वारा इन पर सवाल उठाये जाने के बावजूद यह विधेयक पारित हो गया।

आगे पढ़ें
Farmers_andolan_Continuing-

किसानों ने अपने संघर्ष को तेज किया

किसान आंदोलन, कई राज्यों में, यात्राओं और महापंचायतों के रूप में कार्यक्रम आयोजित कर रहा है। हर जगह पर उसे मेहनतकश लोगों के सभी वर्गों से दिनों-दिन बढ़ता समर्थन हासिल हो रहा है।

आगे पढ़ें
Bank_Strike_Patiala_Punjab

बैंक कर्मचारियों की दो दिवसीय हड़ताल

सार्वजनिक क्षेत्र के दो बैंकों के निजीकरण की घोषणा के विरोध में लाखों बैंक कर्मचारी 15 मार्च -16 मार्च को हड़ताल पर चले गए। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस (यू.एफ.बी.यू.) द्वारा देश में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के नौ यूनियनों के संयुक्त संगठन द्वारा दिए गए आह्वान के जवाब में देश भर में 10 लाख से अधिक कर्मचारियों और अधिकारियों ने भाग लिया।

आगे पढ़ें

भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव की शहादत की 90वीं सालगिरह पर:

शहीदों की पुकार

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का बयान, 20 मार्च, 2021

इस वर्ष के 23 मार्च को भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव की शहादत की 90वीं सालगिरह है। अंग्रेज हुक्मरानों ने 1931 में, इस दिन पर, उन तीन नौजवानों को फांसी की सजा दी थी, क्योंकि उन्होंने बस्तीवादी व्यवस्था का पूरी तरह तख्तापलट करने के लिए अडिग संघर्ष किया था। उन्हें ‘ख़तरनाक आतंकवादी’ करार दिया गया था और उन्हें मौत की सज़ा दी गयी थी।

आगे पढ़ें

जीवन बीमा निगम के कर्मचारियों द्वारा निजीकरण के खि़लाफ़ किये जा रहे संघर्ष का विभिन्न क्षेत्रों के मज़दूरों ने समर्थन किया

हम, अधोहस्ताक्षरित विभिन्न क्षेत्रों के मज़दूरों की यूनियनें, एसोसियेशनें और यूनियनों की फेडरेशनें तथा लोक संगठन, शेयरों की बिक्री के माध्यम से जीवन बीमा निगम (एल.आई.सी.) के निजीकरण तथा बीमा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी पूंजी निवेश (एफ.डी.आई.) की सीमा को 49 से बढ़ाकर 74 प्रतिशत तक करने के प्रस्तावों के खि़लाफ़ आपके न्यायपूर्ण संघर्ष को हम पूरा समर्थन देते हैं। हम 18 मार्च, 2021 को प्रस्तावित आपकी अखिल भारतीय हड़ताल की पूर्ण सफलता की कामना करते हैं।

आगे पढ़ें

जनरल इन्श्योरेंस के कर्मचारियों द्वारा निजीकरण के ख़िलाफ़ किये जा रहे संघर्ष का विभिन्न क्षेत्रों के मज़दूरों ने समर्थन किया

हम, अधोहस्ताक्षरित विभिन्न क्षेत्रों के मज़दूरों की यूनियनें, एसोसिएशनें और यूनियनों की फेडरेशनें तथा लोक संगठन, एक जनरल इन्श्योरेंस कंपनी के निजीकरण तथा बीमा क्षेत्र के लिए प्रत्यक्ष विदेशी पूंजी निवेश (एफ.डी.आई.) की सीमा को 49 से 74 प्रतिशत तक बढ़ाने के प्रस्तावों के खि़लाफ़ आपके न्यायपूर्ण संघर्ष को अपना पूरा समर्थन देते हैं। हम 17 मार्च, 2021 को प्रस्तावित आपकी अखिल भारतीय हड़ताल की पूर्ण सफलता की कामना करते हैं।

आगे पढ़ें

बैंकों के कर्मचारियों द्वारा निजीकरण के ख़िलाफ़ किये जा रहे संघर्ष का विभिन्न क्षेत्रों के मज़दूरों ने समर्थन किया

हम, अधोहस्ताक्षरित विभिन्न क्षेत्रों के मज़दूरों की यूनियनें, एसोसियेशनें और यूनियनों की फेडरेशनें तथा लोक संगठन, सार्वजनिक क्षेत्र के दो बैंकों के प्रस्तावित निजीकरण के ख़िलाफ़ आपके न्यायपूर्ण संघर्ष को अपना पूरा समर्थन देते हैं। 15 और 16 मार्च, 2021 को प्रस्तावित आपके अखिल भारतीय हड़ताल की पूर्ण सफलता की हम कामना करते हैं।

आगे पढ़ें

दिल्ली के महिला संगठनों ने मिलकर अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया

सैकड़ों महिलाएं, पुरुष और नौजवान 8 मार्च, 2021 को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने के लिए नयी दिल्ली के जंतर-मंतर पर एकत्रित हुए।
मंच को एक बहुत ही उत्साहकारी बैनर के साथ सजाया गया था, जिस पर दिल्ली की सीमाओं पर संघर्ष कर रही लाखों-लाखों किसान बहनों की तस्वीर बनी हुयी थी। “किसान-मज़दूर-महिला, 8 मार्च, साथ मार्च!”, यह नारा बैनर पर लिखा हुआ था।

आगे पढ़ें