पार्टी की स्थापना की 43वीं वर्षगांठ मनाई गयी

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की स्थापना की 43वीं वर्षगांठ दिसंबर के अंतिम सप्ताह में देश के अनेक स्थानों और विदेशों में मनाई गयी। पार्टी के प्रवक्ता कामरेड प्रकाश राव ने केन्द्रीय समिति की ओर से एक महत्वपूर्ण भाषणा दिया, जिसका शीर्षक था ”आइए, हम एक ऐसे आधुनिक लोकतंत्र के लिए संघर्ष को आगे बढ़ाएं, जिसमें मज़दूर और किसान एजेंडा तय करेंगे!“

आगे पढ़ें

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की स्थापना की 43वीं वर्षगांठ पर भाषण :
आइए, हम एक आधुनिक लोकतंत्र के लिए संघर्ष को आगे बढ़ाएं, जिसमें मज़दूर और किसान एजेंडा तय करेंगे!


पार्टी की हर सालगिरह पर हम देश के मज़दूर वर्ग और लोगों की स्थिति का जायज़ा लेते हैं। हम चर्चा करते हैं कि हुक्मरान सरमायदार वर्ग के ख़िलाफ़ वर्ग संघर्ष को कैसे आगे बढ़ाया जाए।

आगे पढ़ें
Historic morcha of workers in Nagpur


नागपुर में महाराष्ट्र विधानसभा पर मज़दूरों का विशाल मोर्चा

18 दिसंबर, 2023 को महाराष्ट्र के नागपुर में, जहां राज्य विधानसभा का शीतकालीन सत्र चल रहा था, वहां पर अखिल भारतीय ट्रेड यूनियन कांग्रेस (एटक) ने एक विशाल मोर्चे का आयोजन किया। राज्यभर से हज़ारों कर्मचारी, जिनमें अधिकांश महिलाएं थीं, सरकार की मज़दूर-विरोधी, किसान-विरोधी और जन-विरोधी नीतियों के खि़लाफ़ विरोध करने के लिए सड़कों पर उतरे।

आगे पढ़ें

कुश्ती संघ का निलंबन :
बहुत देर से और बहुत ही कम

युवा मामले और खेल मंत्रालय ने भारतीय कुश्ती संघ (डब्ल्यू.एफ.आई.) के नवनिर्वाचित नेतृत्व 24 दिसंबर को निलंबित कर दिया। उस पर स्थापित मानदंडों का उल्लंघन करने का आरोप है।

आगे पढ़ें
2023 के दौरान जीवन की सबसे महत्वपूर्ण घटनाओं में से एक है कि इस वर्ष दुनियाभर में बड़े पैमाने पर लोग विरोध प्रदर्शनों में शामिल हुए हैं। अधिकांश पूंजीवादी देशों में मज़दूर-मेहनतकश अपने जीवन-यापन की वस्तुओं की क़ीमतों में तेज़ी से होती बढ़ोतरी, निजीकरण, ठेका मज़दूरी, नौकरियों के व्यापक विनाश तथा पेंशन और अन्य सुविधाओं में कटौती के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।


2023 में मज़दूरों और शोषितों के विश्वव्यापी संघर्ष

2023 के दौरान जीवन की सबसे महत्वपूर्ण घटनाओं में से एक है कि इस वर्ष दुनियाभर में बड़े पैमाने पर लोग विरोध प्रदर्शनों में शामिल हुए हैं। अधिकांश पूंजीवादी देशों में मज़दूर-मेहनतकश अपने जीवन-यापन की वस्तुओं की क़ीमतों में तेज़ी से होती बढ़ोतरी, निजीकरण, ठेका मज़दूरी, नौकरियों के व्यापक विनाश तथा पेंशन और अन्य सुविधाओं में कटौती के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

आगे पढ़ें


2023 में हिन्दोस्तान के मज़दूरों, किसानों और मेहनतकशों का संघर्ष

2023 में हमारे देश के मज़दूर और किसान पूंजीपति वर्ग के समाज-विरोधी और मज़दूर-विरोधी हमले के खि़लाफ़ विरोध प्रदर्शनों और हड़तालों में सड़कों पर उतरे। विभिन्न क्षेत्रों के मज़दूरों ने न्यूनतम मज़दूरी के अपने अधिकार के लिए, पूंजीपतियों की मर्ज़ी पर छंटनी के खि़लाफ़ और श्रम संहिताओं के खि़लाफ़ एक साथ रैली की। जिन श्रम संहिताओं ने कार्य दिवस को बढ़ा दिया है और मज़दूरों के यूनियन बनाने और अपने अधिकारों के लिए हड़ताल करने के अधिकारों को प्रतिबंधित किया है।

आगे पढ़ें

नागपुर में फैक्ट्री में धमाका :
मज़दूरों की सुरक्षा की घोर उपेक्षा

18 दिसंबर, 2023 को सोमवार के दिन नागपुर जिले की एक फैक्ट्री में हुए, उस विस्फोट में 9 मज़दूरों की मौत हो गई, जिनमें 6 महिलाएं थीं। बताया जा रहा है कि यह विस्फोट सोलर इंडस्ट्री नामक एक निजी कंपनी में विस्फोटक पदार्थों की पैकिंग के दौरान हुआ।

आगे पढ़ें
Nirbhaya_protest

निर्भया के भयानक बलात्कार और हत्याकांड के 11 साल बाद :
महिलाएं अभी भी सबसे बुरी तरह की हिंसा और भेदभाव का शिकार होती हैं

इस साल 16 दिसंबर को उस दिन के 11 साल पूरे हो गए, जिस दिन एक मज़दूर युवती “निर्भया” के साथ दिल्ली में सामूहिक बलात्कार किया गया था और उस पर जानलेवा हमला किया गया था। उस भयानक घटना के खि़लाफ़, दिल्ली और पूरे हिन्दोस्तान में व्यापक विरोध प्रदर्शन हुए थे। लोगों ने दोषियों को सज़ा देने की मांग की। उन्होंने राज्य और उसकी पुलिस, जो महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने में विफल रही है, उसकी जवाबदेही सुनिश्चित करने की मांग की। लोगों ने महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने और आपराधिक न्याय प्रणाली में बड़े सुधार करने के लिए उपयुक्त प्रावधानों की मांग की।

आगे पढ़ें

‌फ़िलिस्तीनी लोगों के क़त्लेआम को बंद करने और उनके लिए इंसाफ़ की मांग को लेकर इंग्लैंड में विरोध प्रदर्शन जारी है
इंडियन वर्कर्स एसोसिएशन (जी.बी.) के संवाददाता की रिपोर्ट

इंडियन वर्कर्स एसोसिएशन (जी.बी.) के संवाददाता की रिपोर्ट

फ़िलिस्तीनी लोगों के खि़लाफ़ इज़रायल द्वारा किये जा रहे जनसंहारक युद्ध का विरोध करते हुए, पूरे इंग्लैंड में लोग अपना विरोध प्रदर्शन और भी तेज़ कर रहे हैं।

आगे पढ़ें