वोल्टास के श्रमिकों का संसद पर धरना

26 सितम्बर, 2011 को वोल्टास लिमिटेड के मजदूरों ने आल इंडिया वोल्टास इंप्लाईज फेडरेशन की अगुवाई में अपनी मांगों को लेकर संसद पर धरना दिया। ये श्रमिक पिछले 15 वर्षों से स्थायी मजदूरों की भर्ती न करने, द्विपक्षीय समझौते का उल्लंघन करने के खिलाफ़ व ठेके

आगे पढ़ें

मारूती-सुजुकी के मजदूरों का जायज़ संघर्ष के समर्थन करें!

एक पर हमला सभी पर हमला!

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की दिल्ली इलाका कमेटी का बयान, 19 सितम्बर, 2011

सुजुकी के जापानी मालिक ओसामा ने इस अघोषित तालाबंदी के दौरान बयान दिया कि उनकी कंपनी किसी भी प्रांत में नया प्लांट खोलेगी, जिस प्रांत की सरकार उनकी शर्तों को मानेगी। खबरों के मुताबिक तमिलनाडु, गुजरात और हरियाणा के मुख्यमंत्रियों के बीच होड़ लगी है कि कौन सुजुकी को मजदूरों के शोषण का सबसे अनुकूल वातावरण दे सकता है। हरियाणा के मुख्यमंत्री ने सुजुकी के जापानी मालिक से मिलकर आश्वासन दिया है कि वह जमीन तथा हर किस्म की सहुलियत प्रदान करेगा ताकि हरियाणा में वे और कारखाने खोल सकें।

आगे पढ़ें

अफ़गानिस्तान पर कब्जे़ की दसवीं सालगिरह : साम्राज्यवादियों, अफ़गानिस्तान से बाहर निकलो!

एशिया के राष्ट्रों व लोगों, साम्राज्यवाद के अपराधिक आक्रमण का अन्त करने के लिये एक हो!

दस साल पहले, 8 अक्टूबर को, अमरीकी साम्राज्यवादियों ने “आतंकवाद पर जंग” के नाम पर अफग़ानिस्तान पर खुल्लम-खुल्ला हमला किया। इन पिछले दस सालों में बहादुर अफग़ान लोगों की धरती को अमरीकी साम्राज्यवाद और उसके सहयोगियों के सैनिकों के जूतों तले रौंदा है। उनके गांवों, नगरों, सड़कों और यहां

आगे पढ़ें

संयुक्त राष्ट्र में सदस्यता के लिये फिलिस्तीन का प्रयास

शुक्रवार, 23 सितम्बर, 2011 को संयुक्त राष्ट्र में आये सैकड़ों प्रतिनिधियों ने खड़े होकर फिलिस्तीनी नेता, महमूद अब्बास के भाषण की प्रशंसा की, जिसमें उन्होंने फिलिस्तीन की संयुक्त राष्ट्र में सदस्यता की अर्जी की पृष्ठभूमि दी और संयुक्त राष्ट्र महासचिव से आवेदन किया कि फिलिस्तीन को संयुक्त राष्ट्र का सदस्य राज्य बतौर मान्यता दी जाये। दूसरी तरफ, अमरीका ने यह स्पष्ट कर दिया है कि वह सुरक्षा परिषद

आगे पढ़ें

अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक घटनायें : अमरीका में गहराता संकट और मज़दूर वर्ग पर बढ़ता बोझ

इतिहास में सबसे बड़ी राजकोषीय आर्थिक सहायता के बावजूद, अमरीकी अर्थव्यवस्था अभी तक 2007के दिसम्बर से शुरू हुई विश्वव्यापी आर्थिक मंदी से सम्भल नहीं पायी है।

आगे पढ़ें

मारूती-सुजुकी के मजदूरों के समर्थन में हरियाणा भवन पर प्रदर्शन

22 सितम्बर, 2011 को मारूती-सुजुकी के मजदूरों के संघर्ष के समर्थन में मजदूर एकता कमेटी, लोक राज संगठन सहित कई अन्य संगठनों के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने संयुक्त रूप से दिल्ली स्थित मंडी हाऊस से लेकर हरियाणा भवन तक जोरदार रैली निकाली और प्रदर्शन किय

आगे पढ़ें

वोल्टास के श्रमिकों का संसद पर धरना

वोल्टास लि.एयर कंडीशनिंग और इंजीनियरिंग सेवाओं के लिए टाटा समूह की जानी-मानी कंपनी है। इसमें पिछले 15 वर्षों से स्थायी श्रमिकों की भर्ती बंद है। यहां के श्रमिक अपनी मांगों को लेकर कंपनी के मुंबई स्थित चिंचपोकली कार्यालय पर पिछले 142 दिनों से लगातार क्रमिक भूख हड़ताल कर रहे हैं। इसी बीच प्रबंधन ने पुलिस के द्वारा उन्हें धमकाने, हटाने और शारीरिक चोट पहुंचाने की कई बार असफल कोशिश की है। नेतृत्वकारी श्रमिकों को निलंबित भी कर दिया गया था।

आगे पढ़ें

साम्राज्यवादियों, लिबिया छोड़ो!

अगस्त में नाटो के हथियारों के सहारे से लिबिया की बाग़ी ताक़तों ने राजधानी त्रिपोली पर कब्ज़ा जमाया। इसके पहले यही संकेत मिल रहे थे कि अमरीका, बर्तानिया तथा और देशों के लोग तेजी से लिबिया में दखलंदाज़ी का विरोध कर रहे थे और उन सरकारों पर दबाव बढ़ रहा था। अब जब अभूतपूर्व बमबारी के सहारे सेनायें त्रिपोली में घुस गयीं, तब लिबिया में नाटो के खूनी और बर्बर हस्तक्षेप को तुरंत “कामयाब” घ

आगे पढ़ें

लोक राज की जरूरत

मजदूर एकता लहर के संवाददाता ने सिरसा हरियाणा में 28अगस्त 2011को हुई आम चर्चा में हिस्सा लिया। इस सभा में महंगाई, भ्रष्टाचार, सर्वव्यापक सार्वजनिक वितरण व्यवस्था, भूमि अधिग्रहण, राजकीय आतंकवाद, जैसे लोगों से सारोकार रखने वाले मसलों और खास तौर से लोगों के हाथों में सत्ता कैसे आयेगी, इस बात पर चर्चा हुई। चर्चा में लोगों की सक्रिय भागीदारी और उसका उच्च स्तर यह दिखाता है कि अब लोग इस बात से सचेत

आगे पढ़ें

दिल्ली उच्च न्यायालय में बम विस्फोट

7 सितम्बर, 2011 को दिल्ली उच्च न्यायालय के गेट पर हुये बम विस्फोट से अभी तक 13 जानें गयी हैं। तकरीबन 100लोग बुरी तरह घायल हुये हैं। हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी अपने लोगों पर इस जानलेवा हमले की कड़ी निंदा करती है और उन सभी परिवारों के प्रति सहानुभूति प्रकट करती है जिनके परिजन मारे गये या घायल हुये।

आगे पढ़ें