अखिल भारतीय स्टेशन मास्टर्स एसोसिएशन के महासचिव के साथ साक्षात्कार

मजदूर एकता लहर (म.ए.ल.) भारतीय रेलवे में कई श्रेणी-वार एसोसिएशनों के नेताओं के साथ जैसे कि रेल चालकों, गार्डों, ट्रेन नियंत्रकों, सिग्नल और रखरखाव कर्मचारियों, रेल की पटरियों के अनुरक्षकों, पॉइंटमैन, आदि के साक्षात्कार कर रही है और छापती रही है। इस श्रृंखला के सातवें भाग में अखिल भारतीय स्टेशन मास्टर्स एसोसिएशन (ए.आई.एस.एम.ए.) के महासचिव कामरेड सुनील कुमार पी. (एस.के.पी.) का साक्षात्कार हम यहां प्रस्तुत कर रहे हैं।

म.ए.ल. : भारतीय रेल के स्टेशन मास्टर्स (एस.एम.) की मुख्य ज़िम्मेदारियां क्या हैं?

एस.के.पी. : स्टेशन मास्टर्स को कई तरह की ज़िम्मेदारियां सौंपी जाती हैं। मैं उनमें से मुख्य ज़िम्मदारियों के बारे में बात करूंगा।

स्टेशन मास्टर को स्टेशन पर परिचालन के साथ-साथ काम कर रहे वाणिज्यिक कर्मचारियों की निगरानी करनी होती है, इसलिए ड्यूटी मस्टर को बनाए रखना होता है, कर्मचारियों की शिकायतों पर ध्यान देना होता है और सुरक्षा नियमों के बारे में उन्हें परामर्श देना होता है, रेलवे क्वार्टर आवंटित करने होते हैं, इत्यादि।

उसे समय की पाबंदी के साथ-साथ तेज़ गति से गुजरने वाली गाड़ियों सहित अन्य गाड़ियों की सुरक्षा सुनिश्चित करनी होती है। जिसमें कई चीजें शामिल हैं जैसे कि फाटकों को बंद कराना सुनिश्चित करना, लाइन को अवरोधों से मुक्त करना, सिग्नलों को सही तरीक़े से लेना और साथ ही रेल चालक दल की सतर्कता।

स्टेशन की सीमा के भीतर सभी रेल यातायात, संबंधित सिग्नल, यात्रियों, स्टेशन पर तैनात कर्मियों के साथ-साथ रेलवे की संपत्ति के लिए वह ज़िम्मेदार है। उसे यातायात अनुरक्षण ब्लॉकों की व्यवस्था करना, ट्रैक मशीनों और अन्य विभागीय रेलगाड़ियों की आवाजाही की योजना बनाना और व्यवस्थित करना तथा गश्ती दल की आवाजाही भी सुनिश्चित करनी होती है।

स्टेशन मास्टर को यह सुनिश्चित करना होता है कि घायल यात्रियों की देखभाल और प्राथमिक उपचार बॉक्स में सभी आवश्यक सामान भरा हुआ हो। दुर्घटना के मामले में एस.एम. या स्टेशन प्रबंधक रिपोर्ट प्राप्त करता है और साथ ही दुर्घटना स्थल पर यात्रियों और कर्मचारियों को भोजन और पेय पदार्थों की आपूर्ति सुनिश्चित करता है।

उसे शवों को हटवाने और पुलिस के साथ समन्वय स्थापित करने के साथ-साथ रेलवे की संपत्ति की सुरक्षा सुनिश्चित करने का काम देखना होता है।

वह न केवल पूरे स्टेशन परिसर बल्कि आसपास की रेलवे कॉलोनियों की सफाई के लिए भी ज़िम्मेदार है। उसे स्टेशन पर सभी यात्री सुविधाओं की उपलब्धता और उनके रखरखाव को सुनिश्चित करते हुए यात्रियों की पूछताछ और शिकायतों पर ध्यान देना होता है।

उसे दैनिक नक़दी की जांच करनी होती है और उसे समय पर भेजना तथा टिकट जारी करना, आदि सुनिश्चित करना होता है।

एस.एम. को स्टेशन पर आने वाले विभिन्न गणमान्य व्यक्तियों के लिए उपस्थित होना होता है और आवश्यक सहायता प्रदान करनी होती है, उनके स्टेशन पर निरीक्षण के लिये आने वाले विभिन्न अधिकारियों के साथ जाना होता है। उन्हें डेड स्टॉक रजिस्टर को बनाए रखना होता है और इस रजिस्टर में दर्ज वस्तुओं की जांच करनी होती है। फर्नीचर और अन्य उपकरणों की आवश्यकता के अनुसार मरम्मत करानी, अधिक इस्तेमाल की वस्तुओं को त्यागना और आवश्यक दस्तावेज़ आदि तैयार करना होता है ।

म.ए.ल. : भारतीय रेल के स्टेशन मास्टरों को किन मुख्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है?

एस.के.पी. : हमारे कैडर में बारहमासी रिक्त स्थान स्टेशन मास्टरों के सामने सबसे बड़ी समस्या है। इससे हम पर अतिरिक्त काम का बोझ पड़ता है। दुर्घटनाओं की बढ़ती दर एक और चिंता का विषय है। स्टेशन मास्टर कैडर में आर.आर.बी. की भर्ती और पदोन्नति की भर्ती एक लंबी प्रक्रिया है और इस समय तक रिक्तियां 30 प्रतिशत तक पहुंच गयी हैं।

हमारे कैडर में केवल दो ग्रेडों के साथ पदोन्नति के अवसर का अभाव, पूरे जीवन काल में पदोन्नति का केवल एक मौका देना एक और समस्या है। हमने कैडर में कम से कम चार ग्रेड देने की मांग की है ताकि किसी भी नई भर्ती को कम से कम 3 पदोन्नति मिल सके।

रोजगार के घंटे और आराम की अवधि के नियम (एच.ओ.ई.आर.) के तहत अनिवार्य रूप से आंतरायिक (ई.आई.) श्रेणी के तहत एस.एम. के वर्गीकरण को रेल सेवाओं और संबद्ध कर्तव्यों में वृद्धि के कारण कार्यभार में वृद्धि के अनुरूप उन्नत नहीं किया जा रहा है। ई.आई. कैटेगरी को रोजाना 10-12 घंटे ड्यूटी करनी होती है। बढ़ी हुई रेल सेवाओं तथा स्टेशन और स्टेशन परिसर की सफाई सुनिश्चित करने जैसी अन्य अतिरिक्त ज़िम्मेदारियों के बावजूद, स्टेशन मास्टर अभी भी अनिवार्य रूप से इंटरमिटेंट रोस्टर में काम कर रहे हैं। यह न केवल सुरक्षा के लिए ख़तरा है बल्कि यह एस.एम. को अपने सामाजिक दायित्वों को पूरा करने के लिए समय से वंचित करता है।

75 प्रतिशत स्टेशन मास्टर गैर-उपनगरीय शहर की सीमा पर काम कर रहे हैं और कम से कम 40-50 प्रतिशत स्टेशन चिकित्सा और शैक्षिक सुविधाओं से वंचित अलग-अलग क्षेत्रों में असुविधाजनक स्थानों पर कार्यरत हैं। प्रमुख स्टेशनों पर केंद्रीकृत आवास का प्रावधान लंबे समय से लंबित मांग है। उचित परिवहन सुविधाओं का अभाव एक और समस्या है। फिर भी उन्हें हमेशा 4 साल में एक बार पब्लिक डीलिंग सेंसिटिव कैटेगरी के रूप में ट्रांसफर किया जाता है।

एल.सी. गेट्स की संख्या, सार्वजनिक घोषणा प्रणाली, सुरक्षा बैठकें, बनाए जाने वाले रजिस्टरों की संख्या, विभिन्न अनिवार्य पाठ्यक्रम, प्रशिक्षण, समय-समय पर चिकित्सा परीक्षा और जनशक्ति आवश्यकताओं आदि पर अधिकारियों द्वारा कभी भी ध्यान नहीं दिया गया जो उनकी अज्ञानता, दिमाग का इस्तेमाल न करना या जानबूझकर छल कपट का लक्षण है।

केंद्रीय पैनल के चालू होने से पहले, एस.एम. स्टेशन के दोनों छोर पर तैनात केबिन मेन/स्विचमेन के सहयोग से रेलगाड़ियों का संचालन करते थे। इस प्रकार, रेलगाड़ियों को पास करने की ज़िम्मेदारी तीन संस्थाओं के बीच समान रूप से वितरित की गई थीं। परन्तु, अंतिम केबिनों को हटाने के साथ, ट्रेन के गुजरने की पूरी ज़िम्मेदारी एक ही व्यक्ति यानी एस.एम. पर होती है! रेलवे बोर्ड (आर.बी.) उस स्टेशन पर द्वितीय एस.एम. के प्रावधान के लिए सहमत हो गया है जहां यातायात घनत्व काफी बढ़ गया है। यद्यपि अतिरिक्त एस.एम. की नियुक्ति के लिए प्रारंभिक आर.बी. आदेश 2002 में हमारी मांग के अनुसार और कई समितियों की सिफारिशों के अनुसार जारी किया गया था, इसे 19 साल बीत जाने के बाद भी सही मायने में लागू नहीं किया गया है।

व्यस्ततम मार्गों, बड़े और व्यस्त स्टेशनों पर कार्यरत स्टेशन मास्टरों का कार्यभार और उत्तरदायित्व कई गुना बढ़ गया है। इस प्रकार, सभी प्रमुख और व्यस्त स्टेशनों पर प्रभारी एस.एम. या स्टेशन अधीक्षक (एस.एस.) को तैनात करना आवश्यक हो जाता है। यद्यपि एस.एस. में अधीनस्थ के रूप में औसतन 15-20 कर्मचारी होंगे, उन्हें अन्य स्टेशन मास्टरों की तरह शिफ्ट-ड्यूटी करने के लिए छोड़ दिया जाता है और साथ ही साथ अपनी पर्यवेक्षी ज़िम्मेदारियों को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। यह एक विडम्बनापूर्ण स्थिति है, जिस पर हमारे अनेक अभ्यावेदन के बावजूद रेल प्रशासन आंखें मूंद रहा है। इसका स्टेशन अधीक्षकों के कैडर पर मनोबल गिराने वाला प्रभाव पड़ रहा है।

अक्तूबर 2020 में 43,600 रुपये से अधिक मूल वेतन वाले कर्मचारियों का नाइट ड्यूटी भत्ता मनमाने ढंग से रद्द कर दिया गया था। हम एस.एम. (साथ ही रेल चालक, गार्ड आदि जैसे सुरक्षा श्रेणी के अन्य कर्मचारी) को 60 साल की उम्र में अपनी सेवानिवृत्ति तक रात की ड्यूटी करनी होती है। रात की ड्यूटी में काम करना प्रकृति के खि़लाफ़ है और इसके लिए वित्तीय मुआवजे को वापस लेना अत्यंत अन्यायपूर्ण है।

साथ ही वर्तमान स्थिति में स्टेशन मास्टर्स को महामारी में लॉकडाउन के दौरान “कोरोना वारियर्स” घोषित किए बिना भी ड्यूटी के लिए रिपोर्ट करने के लिए मजबूर होना पड़ा है। हममें से 45 वर्ष से कम उम्र के लोगों को पक्षपातपूर्ण टीकाकरण नहीं दिया गया है, जो हमारा अधिकार है।

म.ए.ल. : क्या भारतीय रेल में कोई ठेका कर्मचारी स्टेशन मास्टर के रूप में कार्यरत हैं? वर्तमान में कार्यरत स्टेशन मास्टरों की कुल संख्या कितनी है और वास्तविक स्वीकृत संख्या क्या है?

एस.के.पी. : वर्तमान में हमारी श्रेणी में कोई ठेका कर्मचारी नहीं है। अंतिम वेतन के 50 प्रतिशत वेतन के साथ सेवानिवृत्त स्टेशन मास्टरों को फिर से नियुक्त करने की व्यवस्था थी। इस पर अब रोक लगा दी गई है। मेरा अनुमान है कि वर्तमान में कार्यरत स्टेशन मास्टरों की वास्तविक संख्या लगभग 35,000  की स्वीकृत संख्या की तुलना में केवल 28,000 है। इसलिए न केवल लगभग 20 प्रतिशत रिक्तियां हैं, बल्कि स्वीकृत पदों की संख्या उन्हें आत्मसमर्पण करने की प्रक्रिया से कम होती जा रही है। वर्ष 2013 में प्रत्येक डिविजन में एस.एम. के औसतन 5 प्रतिशत पदों का समर्पण किया गया था!

म.ए.ल. : भारतीय रेल के स्टेशन मास्टरों की कार्य दशाएं कितनी सुरक्षित हैं?

एस.के.पी. : कार्यस्थल पर सुरक्षा एस.एम. के लिए भी चिंता का विषय रहा है। हम शंटिंग संचालन के पर्यवेक्षण के दौरान, सिग्नलिंग बिंदुओं के मैनुअल संचालन के दौरान, पॉइंट्स की हैंड क्रैंकिंग का अभ्यास करते समय, स्टेशनों पर चल रहे रेल चालक दल के साथ सिग्नल का आदान-प्रदान करते समय, जहां दूरी बनाए रखने के लिए पर्याप्त स्थान उपलब्ध नहीं है, ओवरहेड इलेक्ट्रिकल (ओ.एच.ई.) अलगाव के संचालन, आपातकाल के दौरान स्विच, स्टेशनों पर भीड़ के हमले आदि के दौरान घायल हो जाते हैं। हमारे कई सहयोगियों की इन चोटों के कारण मृत्यु हो गई है।

हाल ही में महामारी के कारण हमें भारी नुकसान हुआ है। कोरोना से अब तक 160 से ज्यादा एस.एम. की मौत हो चुकी है!

म.ए.ल. : स्टेशन मास्टरों की काम करने की सुरक्षित स्थिति अन्य रेल कर्मचारियों और यात्रियों की समग्र सुरक्षा को कैसे प्रभावित करती है?

एस.के.पी. : एक एस.एम. के लिए कार्यस्थल पर सुरक्षित और शांत वातावरण का अभाव रेलवे सुरक्षा के लिए एक संभावित ख़तरा है। स्टेशन की सीमा के भीतर और स्टेशनों के बीच रेलगाड़ियों का संचालन पूरी तरह से एस.एम. द्वारा नियंत्रित होता है। रेल चालक के पास रेलगाड़ियों के त्वरण और मंदी का नियंत्रण होता है। चालन ड्राइविंग का दूसरा हिस्सा स्टीयरिंग एस.एम. द्वारा मार्ग बदलने के साथ-साथ सिग्नलिंग द्वारा भी किया जाता है। रेलगाड़ी को खाली लाइन पर चलाकर सुरक्षा सुनिश्चित की जाती है। दुर्घटनाएं तब होती हैं जब एक रेलगाड़ी को उस लाइन पर चलने के लिये निर्देशित किया जाता है जिस पर दूसरी गाड़ी प्रतिक्षा कर रही है या चल रही है। इसलिए एस.एम. की ड्यूटी के दौरान एक छोटी सी व्याकुलता गंभीर दुर्घटना का कारण बन सकती है। सिग्नलिंग परिसंपत्तियों की विफलता के दौरान, स्टेशन मास्टर्स की ड्यूटी अधिक महत्वपूर्ण होती है और जब तक कोई काम पर अत्यधिक केंद्रित नहीं होता है, तब तक दुर्घटना की पूरी संभावना होती है। यह बहुत ही कठिन काम है!

म.ए.ल. : निजीकरण ने स्टेशन मास्टरों की ज़िम्मेदारियों को कैसे प्रभावित किया है?

एस.के.पी. : रेल सेवा में निजीकरण हमारे कर्तव्यों में जिनके लिए बहुत ध्यान देने की आवश्यकता होती है बाहरी हस्तक्षेप हमारी श्रेणी को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करता है। स्टेशन स्तर पर पर्यवेक्षक के रूप में, अनुबंध कार्य की शर्तों को सुनिश्चित करना स्टेशन मास्टरों के प्रमुखों पर एक अतिरिक्त गैर-मुख्य गतिविधि है। हमें ठेकेदारों द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवा की गुणवत्ता पर भी शिकायतें प्राप्त होती हैं। भविष्य में स्टेशन मास्टरों का काम आउटसोर्स होने की संभावना है! मेट्रो रेलवे में ऐसा पहले ही हो चुका है।

म.ए.ल. : इन समस्याओं को रेलवे अधिकारियों के ध्यान में लाने के लिए आपकी एसोसिएशन ने क्या क़दम उठाए हैं और स्टेशन मास्टरों की समस्याओं के समाधान के लिए उनकी क्या प्रतिक्रिया रही है?

एस.के.पी. : हम मंडल, जोनल और रेलवे बोर्ड स्तर पर प्रशासन के साथ मुद्दों को उठाते रहे हैं। संबंधित कार्यकारी समितियां इस मामले पर चर्चा करती हैं और प्रस्ताव पारित करती हैं। इन्हें संबंधित अधिकारियों को भेज दिया जाता है। शिकायतों के तत्काल समाधान के लिए अधिकारियों के साथ बैठक और टेलीफोन पर बातचीत भी की जाती है। हम अपनी मांगों को पूरा करने के लिए आर.एल.सी., कानूनी मंच, वेतन आयोगों से भी संपर्क करते हैं।

इस एसोसिएशन द्वारा उठाए गए कई मुद्दों पर रेलवे की नौकरशाही हमेशा से ही अडिग रही है। हम अपनी कुछ शिकायतों पर कुछ अनुकूल आदेश प्राप्त करने में सक्षम थे। जोनल स्तर और मंडल स्तर पर प्रशासन बताता है कि हम रेलवे के एक मान्यता प्राप्त संघ नहीं हैं और वे हमें डराने की कोशिश करते हैं।

म.ए.ल. : कामरेड सुनील कुमार इस बहुत जानकारीपूर्ण साक्षात्कार के लिए धन्यवाद! हम भारतीय रेल के स्टेशन मास्टरों की जायज़ मांगों का पूरा समर्थन करते हैं। इन न्यायोचित मांगों का समर्थन करना सभी रेलकर्मियों के साथ-साथ पूरे मज़दूर वर्ग के लिए आवश्यक है।

Share and Enjoy !

Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.